कोरोना से जिंदगी की जंग हारे ASI, राजधानी में 70 से अधिक पुलिसकर्मी संक्रमित

वही SI की मौत के बाद इंदौर पुलिस विभाग के ज्यादातर सिपाही, SI और टीआई अफसरों को ही दोष दे रहे हैं। इस मामले में उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों का ना तो ठीक से इलाज किया जा रहा है। ना ही अफसर उन पर ध्यान दे रहे हैं।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में एक बार फिर संक्रमण की स्थिति खराब हो गई है। जिसके बाद सड़क चौराहे से लेकर अन्य विभागों तक में पुलिसकर्मियों सहित अन्य कोरोनावरियर्स लगातार अपनी जान की परवाह किए बिना लोगों की जान बचाने में जुटे हैं। इसी बीच भोपाल में अब तक 70 पुलिसकर्मी की रिपोर्ट पॉजिटिव आ गई है। जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। वहीं कुछ लोगों को होम आइसोलेशन में भी डाला गया है।

इधर आर्थिक राजधानी इंदौर के छत्रीपुरा थाना के ASI राजेश मरमट कि बुधवार सुबह ऑरबिंदो अस्पताल में मौत हो गई। दरअसल  ASI मरमट पिछले कुछ दिनों से कोरोना पॉजिटिव थे। अस्पताल में अपना इलाज करवा रहे थे। बता दे कि पुलिस विभाग में दूसरी लहर पर यह तीसरी मौत है।

Read More: कोरोना का असर, एम्स में 19 अप्रैल से बंद हो जाएगी साधारण ओपीडी

इस मामले में टीआई पवन सिंघल का कहना है कि ASI मरमट को 6 रेमेडीसीवर इंजेक्शन लग चुके थे। उनकी हालत में सुधार भी होने लगा था लेकिन अचानक से बुधवार उनके सांस लेने में दिक्कत हुई और डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया है। मिली जानकारी के मुताबिक राजेंद्र मरमट इलाज के दौरान थाने में पदस्थ अन्य स्टाफ के संपर्क में थे और उन्होने खुद को स्वस्थ बताते हुए कहा था कि उनके रेमडेसिविर इंजेक्शन के 6 डोज पूरे हो चुके है। लेकिन आज अचानक सुबह उनकी मृत्यु के समाचार से समूचे थाने में शौक की लहर व्याप्त है।  वही SI की मौत के बाद इंदौर पुलिस विभाग के ज्यादातर सिपाही, SI और टीआई अफसरों को ही दोष दे रहे हैं। इस मामले में उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों का ना तो ठीक से इलाज किया जा रहा है। ना ही अफसर उन पर ध्यान दे रहे हैं।

इधर इंदौर के पश्चिम और पूर्वी क्षेत्र में 3 सीएसपी की भी रिपोर्ट कोरोना संक्रमित आई है। इसके अलावा ASP और CSP के स्तर के अफसरों के परिजन भी लगातार अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। 2 दिन के अंदर 3 TI की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वही इंदौर के पुलिस अधिकारियों के मुताबिक शहर में 150 के करीब पुलिसकर्मी कोरोना संक्रमण का शिकार हो चुके है।

राजधानी भोपाल की बात करें तो पिछले कुछ दिनों में भोपाल में 70 पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव आए हैं। जहां पिछले 1 साल में राजधानी में 1319 पुलिसकर्मी संक्रमित हो चुके हैं। जिसके पास बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों के संक्रमित होने के बाद भोपाल MANIT के हॉस्टल को पुलिसकर्मियों के लिए 200 बेड का क्वॉरेंटाइन सेंटर तैयार किया गया है।