खरगोन : पुलिस की ड्यूटी के साथ एसआई रजनी निभा रही मां का फर्ज, आप भी करेंगे सल्यूट

खरगोन जिले के बलवाड़ा थाने में पदस्थ एसआई रजनी पुलिस की ड्यूटी के साथ मां का फर्ज भी निभा रही हैं। पढ़िए पूरी खबर....

खरगोन, बाबूलाल सारंग। कोरोना संकट (Corona Crisis) में फ्रंटलाईन वर्कर (Front line Worker) के रूप में चिकित्सक अस्पताल में अपने दायित्व को निष्ठा के साथ निभा रहे है। तो वहीं पुलिस विभाग (Police Department) भी कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) का पालन करने में जुट हुआ है। ऐसे में महिला पुलिसकर्मियों की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। जो अपनी ड्यूटी के साथ पारिवारिक जिम्मेदारियों का निर्वहन बखूबी कर रही है। कुछ ऐसी ही जिम्मेदारी बलवाड़ा थाने में पदस्थ सब इंस्पेक्टर रजनी समाधिया भी निभा रही है। एसआई रजनी पुलिसकर्मी होने के साथ 16 माह के बेटे तनुष की मां भी है। लेकिन इस कोरोना काल में वह अपनी ड्यूटी के फर्ज को बड़ी शिद्दत से निभा रही है।

यह भी पढ़ें:-ग्वालियर में बनेगा 500 बिस्तर का अस्पताल, डबरा में 50 बिस्तर के अस्पताल निर्माण में आयेगी तेजी

सब इंस्पेक्टर रजनी समाधिया सुबह 10 बजे से अपनी ड्यूटी के लिए निकल जाती है। लेकिन इसके पहले अपने 16 माह के बच्चे तनुष के लिए दूध, भोजन आदि की व्यवस्था कर मकान मालिकन के पास छोड़कर थाने निकल जाती है। पूरा दिन कोरोना से लोगों को बचाने के लिए लॉकडाउन की ड्यूटी के साथ नियमित चेकिंग, विवेचना एवं अन्य विभागीय कार्यो के चलते संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है। यही कारण है की वह दिन में अपने बेटे से मिल भी नहीं पाती। वीडियो कॉल के माध्यम से वह अपने बेटे से बात करती रहती है। कई बार ऐसी स्थिति भी बनती है कि दिन तो दिन, रात में भी आकस्मिक ड्यूटी करना पड़ती है। ऐसे कई-कई घंटे भी बच्चे से दूर रहना पड़ता है। सब इंस्पेक्टर रजनी ने बताया कि कई बार बच्चे को वीडियो कॉल में देखने के दौरान आँखों से आंसू भी आ जाते है। लेकिन वह फिर से मजबूत होकर अपने कार्यो में जुट जाती है।

पति भी इसी थाने में आरक्षक
सब इंस्पेक्टर रजनी के पति दिलीप भी बलवाड़ा थाने में आरक्षक है। वे भी डे एंड नाईट दोनों शिफ्ट में ड्यूटी करते है। अधिकांश समय दोनों ही थाने में रहते है। यही कारण है कि वे बच्चे पर ध्यान नहीं दे पाते। हालांकि फिर भी दिलीप रजनी की अनुपस्थिति में घर पर रहने पर बच्चे एवं घर की जिम्मेदारियों को सम्भाल लेते है। वहीं रजनी ने बताया कि वह पहले दमोह के एक थाने में चौकी प्रभारी थी। अगस्त 2019 में उनका स्थानान्तरण बलवाड़ा हो गया। इस दौरान वह गर्भवती थी। 21 नवम्बर को बेटे के जन्म के बाद वह लीव पर चली गई। लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते उनकी लीव केंसल हो गई। तब से ही वह ड्यूटी कर रही है। हाल ही में चाईल्ड लिव के लिए अप्लाई किया था लेकिन वह भी केंसल हो गया|