कोरोना पर सख्ती, मप्र 60 घंटे के लिए लॉक, आज शाम बैठक में बड़ा फैसला संभव

सीएम शिवराज ने कहा कि एक तरफ हम इलाज की सारी व्यवस्थाएं कर रहे है। बिस्तर की संख्या को बढ़ाकर 1 लाख किया जाएगा।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप मीटिंग (Crisis Management Group Meeting) के बाद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने बड़ा फैसला लिया है। जहां प्रदेश में 60 घंटे का लॉकडाउन लगाया गया है। इसके साथ ही आज शाम को एक बार फिर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जिले के प्रशासनिक अधिकारियों के साथ बड़ी बैठक करेंगे। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (narendra modi) की सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक है। माना जा रहा है कि मीटिंग के बाद सीएम शिवराज (CM shivraj) आगे की स्थिति पर कोई बड़ा फैसला लेंगे।

इससे पहले सीएम शिवराज ने कहा कि आज Covid की भी उच्च स्तरीय समीक्षा की है। जिसमे निर्देश दिये गये है कि पूरे मध्यप्रदेश में सभी शहरों में शुक्रवार (FRIDAY) शाम 6 बजे से लेकर सोमवार (MONDAY) सुबह 6 बजे तक लॉकडाउन रहेगा। हम बड़े शहरों में कंटेनमेंट एरिया भी बना रहे है। उसको भी बन्द किया जाएगा। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप में बड़े शहरों पर फैसला लेंगे।

सीएम शिवराज ने कहा कि एक तरफ हम इलाज की सारी व्यवस्थाएं कर रहे है। बिस्तर की संख्या को बढ़ाकर 1 लाख किया जाएगा। भोपाल में पीपुल्स ओर जे के अस्पताल को निशुल्क उपचार के लिए चुना गया है। जंहा गुंजाइश है वहां कसर नहीं छोड़ेंगे। भिलाई से ऑक्सीजन लेना शुरू कर दिया है। इंजेक्शन भी खरीद रहे है। दवाइयों की कमी ना रहे। इसका भी प्रबन्ध किया जाएगा।  आज देश में सवा लाख से ज्यादा मामले आए है। कई राज्यों कि हालात खराब है। शिवराज ने कहा रात में सभी जिले में कलेक्टर सहित सभी से चर्चा करूंगा। कल वर्चुअल कैबिनेट बैठक भी करूंगा। इसके अलावा सांसद विधायकों से भी चर्चा करूंगा। सभी को साथ लेकर चलना है।

Read More: सीएम शिवराज ने प्रदेश को दी 4200 करोड़ रुपए की सौगात, हजारों युवाओं को मिलेगा रोजगार

बता दें कि देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर आज पीएम मोदी शाम 6:30 बजे सभी राज्य के मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक करेंगे। जिसके बाद सीएम शिवराज सभी जिले के एसपी और डीएम सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग करेंगे वहीं जिले की स्थिति का जायजा लिया जाएगा। जहां कोरोना के मामले अधिक है वहां प्रतिबन्ध बढ़ाए जा सकते हैं। इसके अलावा आगे की रणनीति पर विचार कर सकते हैं।

हालांकि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पहले ही स्पष्ट कर चुके हैं कि वह लॉकडाउन लगाने के मूड में नहीं है लेकिन कोरोना की स्थिति से निपटने के लिए किसी भी परिस्थिति को स्वीकार करना अनिवार्य है। CM शिवराज ने कहा कि लॉकडाउन से पहले के सारे विकल्प को प्रदेश में आजमाया जाएगा। इसके बावजूद अगर संक्रमण के मामले कम नहीं होते हैं तो आखिरी विकल्प के रूप में लॉकडाउन को चुना जाना अनिवार्य होगा।