स्वच्छ सर्वेक्षण 2020: नए आयुक्त के आते ही चौथे नंबर पर आया रतलाम, पुरस्कृत करेंगे पीएम मोदी

रतलाम, सुशील खरे

सफाई की परीक्षा में नगर निगम रतलाम ने प्रदेश के टॉप टेन शहरों में चौथा स्थान बनाया है। डिटेल सर्वे रिपोर्ट 20 अगस्त को दोपहर 11 बजे से होने वाले वर्चुअल प्रोग्राम में प्रधानमंत्री जारी करेंगे। इसके बाद ही पता चलेगा कि नगर निगम को अवॉर्ड किस कैटेगिरी में दिया जा रहा है। इस प्रोग्राम में प्रदेश के 10 नगरीय निकाय के अधिकारी ऑनलाइन शामिल होंगे। आवासन और शहरी कार्य मंत्रालय जारी आदेश में इन टॉप टेन शहरों में रतलाम नगर निगम का नंबर चौथा है। पहले नंबर पर इंदौर, दूसरे पर जबलपुर और तीसरे पर बुरहानपुर है। 6000 अंकों का स्वच्छता सर्वेक्षण जनवरी में हुआ था। कोविड-19 महामारी के कारण अब तक रिजल्ट जारी नहीं हो पाया था। इसके पहले सरकार ने 17 जुलाई को जारी करने की तैयारी की थी। बीते साल शहर देश में 62वें नंबर पर आया था। नए आयुक्त सोमनाथ झारिया के आते ही पांच साल में पहली बार मिला कोई बड़ा पुरुस्कार

2021 के सर्वे के लिए एमआईएस भरना शुरू
भले स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 का रिजल्ट जारी नहीं हुआ हो लेकिन 2021 के सर्वे के लिए नगरीय निकायों की कसरत शुरू हो गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि सरकार ने जुलाई से एमआईएस (मैनेजमेंट इंर्फोमेशन सिस्टम) भरवाना प्रारंभ कर दिया है। नए सर्वे में बीते साल के मुकाबले जो बड़ा फर्क आया है, उसके मुताबिक इस बार बाहरी टीम (डायरेक्टर आब्जर्वेशन) सर्वे करने नहीं आएगी। 6000 अंकों के सर्वे में सिटीजन वाइस से ही रैंकिंग की जाएगी। इतना ही नहीं इस बार सर्वेक्षण तीन भाग में होगा, जबकि 2020 में चार भाग में हुआ था। खास यह कि सर्टिफिकेशन वाले भाग में ओडीएफ और जीएफसी के साथ इस बार वाटर प्लस सर्वे को भी जोड़ा गया है। इसमें शहर से निकलने वाले गंदे पानी का ट्रीटमेंट और उसके वापस उपयोग की स्थिति को परखा जाएगा।

इस पूरी प्रक्रिया पर आयुक्त श्री झरिया का कहना है की  20 अगस्त को होने वाले वर्चुअल प्रोग्राम में प्रदेश के दस शहरों को अवॉर्ड दिए जाएंगे। इस सूची के मुताबिक शहर का नंबर चौथा है। विस्तृत सर्वे रिपोर्ट उसी दिन जारी होगी। खराब वाहन जल्द ठीक हो जाएंगे। अनुपस्थित सफाई कर्मचारियों पर लगातार कार्रवाई कर रहे हैं।  एक तरफ जहां सफाई की परीक्षा में निगम का अच्छा नंबर लगा है, वहीं कर्मचारी के प्रभारी अधिकारी और उपयंत्री की लापरवाही से शहर का पूरा कचरा नहीं उठ पा रहा है। कारण लगभग डेढ़ माह पहले से लगभग 45 कचरा कलेक्शन वाहन का खराब पड़े होना है। फिलहाल सारा दारोमदार 30 नए वाहन पर आ गया है। इसके अलावा एक फायर वाहन, 3 ट्रैक्टर, एक कांपेक्टर और 2 डंपर भी खराब पड़े हैं। इसकी जानकारी लगने के बाद आयुक्त सोमनाथ झारिया ने तुरंत एस्टीमेट बनाकर वाहन सुधरवाने की कार्रवाई शुरू कर दी है।