Rape मामले में तहलका के संस्थापक तरुण तेजपाल बरी, गोवा सेशन कोर्ट का फैलसा

" बीते साढ़े सात साल मेरे परिवार के लिए पीड़ा पूर्ण रहे हैं। हमने इन झूठे आरोपों की वजह से व्यक्तिगत, पेशेवर, और सामाजिक जीवन में कष्टकारी विवाद भी झेले हैं।"

rape, tarun tejpal

गोवा, डेस्क रिपोर्ट। रेप (rape) मामले में तहलका मैगजीन (tehelka magazine) के संस्थापक और एडिटर तरुण तेजपाल (tarun tejpal) को गोवा के न्यायालय (goa court) ने बरी कर दिया है। तरुण तेजपाल पर 2013 में अपनी साथी के ऊपर यौन शोषण (sexual assault) करने का आरोप लगाया गया था। ये घटना गोवा में आयोजिति हुई कॉन्फ्रेंस के दौरान एक फाइव-स्टार रिसोर्ट की बताई जा रही थी।

सन 2017 में कोर्ट ने तरुण तेजपाल पर इसी घटना के सिलसिले में बलात्कार, यौन शोषण और गलत तरीके से बंदी बनाने के आरोप लगाए थे। जिसके बाद तरुण तेजपाल ने लगाए गए आरोपों को सुप्रीम कोर्ट में चैलेंज किया। इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने इस केस के लिए ट्रायल को गोवा के ही कोर्ट में चलते रहने की अनुमति दे दी।

यह भी पढ़ें… राजीव गांधी की पुण्यतिथि- राहुल, प्रियंका ने भावुक होकर किया पिता को याद

अपने पिता की ओर से तरुण तेजपाल की बेटी कारा तेजपाल ने स्टेटमेंट पढ़ा जिसके अनुसार उनपर यौन शोषण के झूठे आरोप लगाए गए हैं। तरुण तेजपाल के वकील की कोरोना के चलते मृत्यु हो गयी थी। उन्हें धन्यवाद कहते हुए तरुण तेजपाल ने कहा, ” मैं कोर्ट का सम्मान करता हूँ और कोर्ट का सख्त, निष्पक्ष और सही तरीके से मामले की सुनवाई करने के लिए आभार व्यक्त करता हूँ। इसके अलावा सीसीटीवी फुटेज, रिकॉर्ड्स और प्रयोगसिद्ध सामग्री की जांच के लिए भी धन्यवाद कहता हूँ।”

तरुण तेजपाल ने ये भी कहा, ” बीते साढ़े सात साल मेरे परिवार के लिए पीड़ा पूर्ण रहे हैं। हमने इन झूठे आरोपों की वजह से व्यक्तिगत, पेशेवर, और सामाजिक जीवन में कष्टकारी विवाद भी झेले हैं।”

यह भी पढ़ें… फर्जी क्लीनिक पर प्रशासन का छापा, सील, दवाइयां और ड्रिप के कट्टे बरामद

उल्लेखनीय है कि तरुण तेजपाल पर ये आरोप तब सामने आए जब तहलका में ही कार्यरत एक महिला ने अपने सीनियर्स को ईमेल के द्वारा अपने साथ हुई घटना के बारे में बताया और ईमेल के जवाब में आए मैसेज लीक हो गए। इसके तुरंत बाद तेजपाल तहलका के एडिटर की पोस्ट से हट गए। उन्हें नवम्बर 2013 में गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद वे मई 2014 से बेल पर बाहर हैं।