सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर की इस हरकत से बढ़ी बीजेपी की बेचैनी, संघ तक पहुंचा मामला

सांसद ठाकुर का कहना है कि वह 8 विधानसभाओं के सांसद है और पार्टी नेताओं ने जिम्मेदारी दी है उसे पूरा करेंगी। कोई भी उन्हें कमजोर समझने की भूल ना करें।

प्रज्ञा ठाकुर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। भोपाल के सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर एक बार फिर से चर्चा में है। अब उनकी चर्चा का कारण है अपने ही पार्टी के उपेक्षित और नाखुश नेताओं को इकट्ठा कर उनकी बैठक लेना। दरअसल मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर (pragya singh thakur) लगातार प्रदेश के विधायकों से उपेक्षित नेताओं से संपर्क कर उनकी बैठक ले रही हैं। जिसके बाद प्रदेश भाजपा (bjp) में हलचल की स्थिति होनी लाजिमी है।

सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने पार्टी से उपेक्षित और विधायकों से दरकिनार हुए सभी सीनियर नेताओं को एक साथ जोड़ने का काम शुरू कर दिया है इसके साथ ही साथ वह उनके साथ बैठकर कर रही है और उनकी समस्याओं पर चर्चा कर रही हैं। हाल ही में भोपाल शहर के पांच विधानसभाओं के 30 लोगों के साथ उन्होंने अपने निवास स्थान पर बैठक आयोजित की। जिसमें भगत रघुवंशी, विष्णु राठौर, दीपक मेहता, विनय तिवारी जैसे कई दिग्गज शामिल हुए थे। जहां उनकी समस्याओं के कारण पर विस्तृत चर्चा हुई और पार्टी से दरकिनार किए इन नेताओं ने अपना पक्ष सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर के सामने रखा। वही बैठक से पहले सभी लोगों के मोबाइल फोन बाहर रखवा दिए गए थे।

Read More: वरिष्ठ कांग्रेस नेता और पूर्व मंत्री का निधन, पार्टी में शोक लहर, आज होगा अंतिम संस्कार

सूत्रों से आ रही खबर के मुताबिक बीजेपी नेता अपने-अपने क्षेत्र के विधायक और पूर्व मेयर के हस्तक्षेप की वजह से पार्टी से दरकिनार हो रहे हैं वहीं उन्हें उपेक्षित होना पड़ रहा है। जिसके बाद सीनियर नेताओं की इस तरह उपेक्षा से सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर काफी नाखुश है। इसके साथ ही आ रही जानकारी के मुताबिक सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर भोपाल के डेढ़ सौ लोगों की सूची तैयार करवा रही है। जो विधायकों की उपेक्षा महसूस कर रहे हैं और इन उपेक्षित लोगों के साथ भी वह जल्द बैठक आयोजित करेंगी।

बता दें कि पिछले दिनों किसान सम्मेलन के कार्यक्रम में उन्हें उचित सम्मान नहीं दिया गया। जहां उनकी कुर्सी मंच पर पीछे की जगह रखी गई थी। इस अपमान की वजह से प्रज्ञा सिंह ठाकुर कार्यक्रम आधी ही छोड़कर वहां से बाहर आ गई थी। चर्चा है कि उन्होंने इस मामले की शिकायत उच्च स्तरीय राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से भी की थी। इसके साथ ही सांसद ठाकुर का कहना है कि वह 8 विधानसभाओं के सांसद है और पार्टी नेताओं ने जिम्मेदारी दी है उसे पूरा करेंगी। कोई भी उन्हें कमजोर समझने की भूल ना करें।