बीजेपी विधायक को पाकिस्तान से मिली जान से मारने की धमकी, फैली सनसनी

इस मामले में इटावा के एसएसपी विकास तोमर का कहना है कि बीजेपी विधायक को 8 मैसेज भेजे गए हैं और वह सभी मैसेज एक ही नंबर से भेजे गए। जिसकी जांच की जा रही है।

बीजेपी नेता

इटावा, डेस्क रिपोर्ट। बीजेपी विधायक (BJP MLA) सरिता भदोरिया (Sarita bhadauriya) को परिवार सहित जान से मारने की धमकी दी गई है। बताया जा रहा है उन्हें यह धमकी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई (ISI) से मिली है। चौंकाने वाली बात यह है कि उनका जिस नंबर से फोन आया है। वह फोन नंबर पाकिस्तान (pakistan) का है। जिसके बाद बीजेपी विधायक सरिता भदौरिया ने डीएम (DM) और एसएसपी को मामले की शिकायत की। वहीं बीजेपी विधायक की सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है। साथ ही सर्विलेंस की टीम मामले की जांच में जुटी है।

दरअसल उत्तर प्रदेश की महिला एवं बाल विकास संयुक्त समिति की सभापति और इटावा से भारतीय जनता पार्टी की विधायक सरिता भदौरिया को जान से मारने की धमकी मिली है। ये धमकी उनके पूरे परिवार को लेकर दी गई है। जिसके बाद बीजेपी विधायक सरिता भदौरिया ने डीएम और एसएसपी से मामले की शिकायत की।

ज्ञात हो कि बीजेपी विधायक को व्हाट्सएप (whatsapp) पर मैसेज कर धमकी दी गई है। वही मैसेज में आए कोड पाकिस्तान से बताए जा रहे हैं। बीजेपी विधायक सरिता भदौरिया ने बताया कि शनिवार रात को व्हाट्सएप पर माध्यम से उन्हें एक मैसेज आए। जिसमें उनके पूरे परिवार को जान से मारने की धमकी दी गई। उन्होंने दावा किया है कि उन्हें एक संदिग्ध कॉल भी आए हैं। जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को भी मारने की धमकी मिली है।

Read More: Budget 2021: आज 11 बजे पेश होगा आम बजट, मिडिल क्लास के लिए हो सकता ये बड़ा ऐलान

बीजेपी विधायक का कहना है कि धमकी देने वाले ने वीडियो कॉल (video call) भी करना शुरू किया था लेकिन विधायक द्वारा किसी कॉल का उत्तर नहीं दिया गया। उन्होंने कहा है कि वह इन छोटी-मोटी धमकियों से डरने वाली नहीं है। इस मामले में इटावा के एसएसपी विकास तोमर का कहना है कि बीजेपी विधायक को 8 मैसेज भेजे गए हैं और वह सभी मैसेज एक ही नंबर से भेजे गए। जिसकी जांच की जा रही है।

बता दें कि सरिता भदौरिया का राजनीति से दूर-दूर तक कोई नाता नहीं था। लेकिन अपने पति की मृत्यु के बाद उन्होंने कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी। साल 1999 में उन्होंने कांग्रेस पार्टी की तरफ से इटावा लोकसभा सीट से पहला लोकसभा का चुनाव लड़ा। हालांकि सरिता भदौरिया ज्यादा दिन तक कांग्रेस परिवार का हिस्सा नहीं रही और उन्होंने बीजेपी (bjp) ज्वाइन कर ली। साल 2004 का संसदीय चुनाव सरिता ने बीजेपी की तरफ से लड़ा था। वहीं वर्ष 2017 में वह पहली बार सदर सीट से विधायक चुनी गई थी।

गौरतलब हो कि उनके पति और कांग्रेस नेता अभयवीर सिंह भदौरिया को गोलियों से भून दिया गया था। जिनकी हत्या का आरोप भाजपा एमएलए जयवीर सिंह भदोरिया के परिवार के सदस्यों पर लगा था। जिसके बाद कोर्ट ने आरोपियों को उम्र कैद की सजा सुनाई थी। वही एक बार फिर भाजपा विधायक को धमकी मिलने के बाद उनकी सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गई है और साथ ही धमकी की जांच की जा रही है।