विवेक तन्खा ने पूछा- क्या 5 लाख की बांड के बाद रिहा होंगे कंप्यूटर बाबा? अर्नब गोस्वामी से की तुलना

एसडीएम ने बाबा की जमानत याचिका निरस्त कर दी है। वहीं कंप्यूटर बाबा को छोड़ उनके सभी साथियों को जमानत मिल गई है। वही कंप्यूटर बाबा की अर्नब गोस्वामी से तुलना करते हुए विवेक तंखा ने कहा कि अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से व्यक्तिगत बॉन्ड पर रिहाई मिल गई है।

विवेक तन्खा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (Madhya pradesh) में कंप्यूटर बाबा (computer baba) उर्फ नामदेव दास त्यागी शिवराज सरकार के निशाने पर आ गए हैं। जिनके खिलाफ 3 दिन पहले अवैध कब्जे और निर्माण को लेकर कार्रवाई की गई थी। इसके साथ ही उन्हें हिरासत (Arrest) में ले लिया गया था। आज उन्हें हिरासत में गए 3 दिन का वक्त बीत चुका है। इसके बाद भी सेंट्रल जेल में बंद कंप्यूटर बाबा की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। एसडीएम ने बाबा की जमानत याचिका निरस्त कर दी है। वहीं कंप्यूटर बाबा को छोड़ उनके सभी साथियों को जमानत मिल गई है। इसका साफ मतलब है कि इस बार बाबा की दीपावली जेल में ही गुजरेगी।

जिस पर अब कांग्रेसी नेताओं ने शिवराज सरकार (Shivraj government) को एक बार फिर से घेरा है। इस मामले में जहां राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा (Vivek Tankha) ने कंप्यूटर बाबा की गिरफ्तारी की तुलना अर्नब गोस्वामी (Arnab Goswami) से कर दी है। वहीं दूसरी तरफ दिग्विजय सिंह (Digvijay singh) का कहना है कि बिना किसी कारण प्रतिशोध की भावना से शिवराज सरकार द्वारा यह कार्रवाई की जा रही है।

दरअसल गुरुवार को ट्वीट करते हुए राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि कंप्यूटर बाबा को बंधक रखने का खेल प्रशासन को बंद करना चाहिए। वही 3 दिन तक कंप्यूटर  बाबा को जेल में रखे जाने पर सवाल करते हुए विवेक तंखा ने कहा कि सेशन कोर्ट में कल मौखिक सूचना दी गई। 3 दिन से बाबा को जेल से रिहा नहीं किया गया है। वही कंप्यूटर बाबा की अर्नब गोस्वामी से तुलना करते हुए विवेक तंखा ने कहा कि अर्नब गोस्वामी को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) से व्यक्तिगत बॉन्ड पर रिहाई मिल गई है। वही तन्खा ने सवाल किया है कि क्या इंदौर एसडीएम (Indore SDM) भी कंप्यूटर बाबा से 5 लाख रुपए की बांड की शर्त रख रहे हैं?

Read More: मंत्रिमंडल विस्तार- दिवाली बाद तुलसी और गोविंद बनेंगे मंत्री, बाकियों के मंत्री बनने की उम्मीद कम

दूसरी तरफ आचार्य प्रमोद के ट्वीट को रिट्रीट करते हुए दिग्विजय सिंह (Digvijay singh) ने भी शिवराज सरकार पर निशाना साधा है। दिग्विजय सिंह ने कहा कि राजनीतिक प्रतिशोध की भावना से कंप्यूटर बाबा को बिना किसी कारण 3 दिनों से जेल में डाल रखा गया है। यह राजनीति के लिए बड़े दुख की बात है।

बता दें कि अर्णब गोस्वामी की रिहाई के बाद एक बार फिर कांग्रेसी नेता कंप्यूटर बाबा को जेल से छुड़ाने के लिए इस बात का सहारा ले रहे हैं। वहीं अब अवैध कब्जे को लेकर की गई कार्यवाही के बाद हिरासत में लिए गए कंप्यूटर बाबा को 3 दिन का वक्त बीत जाने के बाद भी अब तक रिहा नहीं किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here