नौकरी छोड़ शुरू किया कारोबार, आज Blackzone के प्रोडक्ट्स ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में बनाई पहचान, पढ़ें कन्नव ठुकराल की Success Story

भारतीय स्मार्टफोन बाजार में जहां ऐप्पल, सैमसंग और चाइनीज कंपनियों का दबदबा है, वहां कन्नव ठुकराल की कंपनी ने अपने देशी ब्रांड के साथ अपनी जगह बनाई है।

Sanjucta Pandit
Published on -

Kannav Thukral’s Success Story : कन्नव ठुकराल भारतीय स्मार्टफोन बाजार में नया नाम है। दरअसल, उनकी यह यात्रा फीचर फोन बनाने की फैक्ट्री से शुरू हुई थी, जहां उन्होंने स्मार्टफोन बनाने का कार्य शुरू किया। कन्नव लुधियाना, पंजाब के रहने वाले हैं। यहां से वह अपने परिवार के साथ दिल्ली आ गए, जहां उनके पिता का स्कूटर के स्पेयर पार्ट्स का कारोबार शुरू किया। दिल्ली में पले-बढ़े कन्नव ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा दरबारी लाल डीएवी मॉडल स्कूल से पूरी की और फिर दिल्ली विश्वविद्यालय से कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया। साथ ही, उन्होंने NIIT से GNIIT कोर्स भी पूरा किया। उनकी मेहनत से उन्हें ल्यूसेंट टेक्नोलोजीज में नेटवर्क इंजीनियर के रूप में नौकरी मिली, जहां से उन्होंने अपने करियर की शुरुआत की।

नौकरी छोड़ शुरू किया कारोबार, आज Blackzone के प्रोडक्ट्स ने अंतरराष्ट्रीय बाजार में बनाई पहचान, पढ़ें कन्नव ठुकराल की Success Story

छोड़ी नौकरी

ल्यूसेंट टेक्नोलोजीज में 3 साल काम करने के बाद कन्नव ठुकराल ने अपने पिता के कहने पर नौकरी छोड़कर पूरी तरह से परिवार के कारोबार में जुड़ गए। दिल्ली के खान मार्केट में स्थित उनकी दुकान, जनता ऑटो स्पेयर्स, लग्जरी गाड़ियों के स्पेयर पार्ट्स के लिए मशहूर थी। इन स्पेयर पार्ट्स की सोर्सिंग दुबई, जर्मनी, जापान आदि से की जाती थी, क्योंकि उस समय केवल एंबेसीज के पास ही लग्जरी कारें होती थीं। इसके साथ ही, उन्होंने नोकिया के फीचर फोन के स्पेयर पार्ट्स का काम भी शुरू किया। इस दौरान धीरे-धीरे उन्होंने अपने बिजनेस का विस्तार किया और तकनीकी क्षेत्र में कदम रखा।

ऐसे आया आइडिया

जब देश में मोबाइल फोन का विस्तार हो रहा था, उस वक्त कन्नव ने नोकिया और सैमसंग जैसी कंपनियों के शिपमेंट मंगवाकर उन्हें दिल्ली के विभिन्न बाजारों में बेचना शुरू किया। उन्हें फोन के व्यापार में काफी मजा आने लगा। इसी दौरान कुछ भारतीय कंपनियों ने चीन से स्पेयर पार्ट्स मंगाकर भारत में ही फोन की असेम्बलिंग शुरू कर दी। तभी उन्होंने हरियाणा के सोनीपत जिले के कुंडली में 1000 वर्ग मीटर जमीन पर एक फैक्ट्री लगाई। जिसके बाद उन्होंने कारा ब्रांड नाम से फीचर फोन बनाना शुरू किया। कम कीमत के ये फीचर फोन ग्रामीण इलाकों और छोटे शहरों में बहुत लोकप्रिय हो गए। इस तरह कन्नव ने अपनी एक अलग पहचान बनाई।

2016 में शुरू किया खुद का बिजनेस

इसकी सफलता से प्रेरित होकर कन्नव ने साल 2016 में स्मार्टफोन बनाना शुरू किया, जिसका नाम ब्लैकजोन (Blackzone) रखा। इन सस्ते स्मार्टफोनों को बिहार, उत्तर प्रदेश, पंजाब, जम्मू कश्मीर, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, पूर्वोत्तर के राज्य दक्षिण भारत के राज्य और अन्य स्थानों पर बेचा। ब्लैकजोन स्मार्टफोन की अधिक मांग को देखते हुए कन्नव ने नेक बैंड, स्पीकर, स्मार्ट वॉच भी बनाया। बता दें कि ब्लैकजोन टेक्नोलोजीज 10 हजार रुपये से कम कीमत वाले सस्ते स्मार्टफोन बनाती है। उनके प्रोडक्ट्स न केवल देश में बल्कि विदेशों में भी बिकते हैं। वर्तमान में, वे अपने स्मार्टफोन और अन्य प्रोडक्ट्स श्रीलंका और नेपाल में बेच रहे हैं।

जानें कंपनी का टर्नओवर

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वर्तमान में उनकी कंपनी का टर्नओवर 110 करोड़ रुपये है। भारतीय स्मार्टफोन बाजार में जहां ऐप्पल, सैमसंग और चाइनीज कंपनियों का दबदबा है, वहां कन्नव ठुकराल की कंपनी ने अपने देशी ब्रांड के साथ अपनी जगह बनाई है। वहीं, कन्नव का कहना है कि वे बांग्लादेश और भूटान में भी एक्सपोर्ट के अवसर तलाश रहे हैं।


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है। पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।

Other Latest News