Post Office Scheme: 1 जनवरी से पोस्ट ऑफिस की इन 5 स्कीम्स में होगा बड़ा बदलाव, मिलेगा लाभ, जानें यहाँ

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Post Office Scheme: भारत सरकार के द्वारा पोस्ट ऑफिस के जरिए कई योजनाओं का लाभ मिलता है। नया साल शुरू होने जा रहा है। इस दौरान कई नियमों में बदलाव भी होने है। सरकार ने डाकघर की कई योजनाओं में बदलाव किये हैं। यदि आप भी इनसे से जुड़े हैं तो यह आपके लिए गुड न्यूज हो सकती है। 1 जनवरी, 2023 से कई स्कीम में मिलने वाले ब्याज दरों में बदलाव होगा। इस लिस्ट में पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट,नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट, मंथली इनकम स्कीम, सीनियर सिटीजन स्कीम और किसान विकास पत्र योजना की ब्याज में बढ़ोत्तरी की गई है। वहीं सुकन्या समृद्ध योजना और पीपीएफ में कोई बदलाव नहीं हुए हैं, इन दोनों पर सबसे ज्यादा ब्याज पहले ही मिलता है। बता दें की डाकघर समय-समय पर ब्याज दरों में बदलाव करता है। ये नई दरें जनवरी-मार्च 2023 के लिए निर्धारित की गई है। आगे बदल भी सकते हैं। इससे पहले दिसंबर में इन दरों में बदलाव किया गया था।

किसान विकास पत्र के ब्याज में इजाफा किया गया है। अब 123 महीने अवधि के निर्धारित ब्याज दर 7.2 प्रतिशत है, जो पहले 7 प्रतिशत ही थी। देखा जाए तो सभी कॉ मिलाकर इन योजनाओं के ब्याज में 0.20 फीसदी से लेकर 1.10 फीसदी की वृद्धि हुई है। नए ब्याज दर 1 जनवरी से लागू हो जाएंगे। नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट पर 6.8 प्रतिशत की जगह 7 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा। पोस्ट की टाइम डिपॉजिट स्कीम की विभिन्न अवधि पर भी इन्टरेस्ट बढ़ाया गया है। 1 साल के लिए अब 6.6 प्रतिशत, 2 साल के लिए 6.8 प्रतिशत, तीन साल के लिए 6.9 प्रतिशत और 5 साल के लिए 7 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा।

अन्य योजनाओं की बात करें तो सरकार ने सीनियर सिटीजन्स स्कीम पर मिलने वाले इंटरेस्ट रेट को बढ़ाकर 8 प्रतिशत कर दिया है। इसपर पहले 7.60% ब्याज मिलता था। मंथली इनकम स्कीम की ब्याज 6.7 फीसदी से बढ़कर 7.1 प्रतिशत हो जाएगी। मार्च 2023 में एक बार फिर इन स्कीम के ब्याज में बदलाव होगा। पोस्ट ऑफिस के अलावा कई अन्य नियमों में बदलाव नए साल में नजर आने वाले है। बैंकों ने एफडी और सेविंग अकाउंट पर ब्याज बढ़ाकर ग्राहकों को राहत दी है।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News