Wedding Insurance के जरिए अपने सुनहरे सपने को करें सिक्योर, जानें क्यों है जरूरी?

Wedding Insurance: शादी हर इंसान के जीवन का सबसे खूबसूरत सपना होती है। दो परिवारों के मिलन की इस परंपरा को पूरा करने के लिए वह दो लोग जो शादी कर रहे हैं उनके साथ जुड़ा हर एक व्यक्ति कोई ना कोई सपना जरूर देखता है। भारत में होने वाली शादियां तो वैसे भी अपनी भव्यता के लिए प्रसिद्ध होती हैं। कई लोग तो ऐसे होते हैं जो अपनी क्षमता से अधिक खर्च शादियों में करते हैं। आजकल दुनिया में जिस तरह की चीजें हो रही है महामारी का आना या कभी भी कोई भी घटना हो जाना, ये ऐसी चीजें हैं जो कभी भी हंसती खेलती जिंदगी को खराब कर देती है। यही कारण है कि यह बहुत जरूरी हो गया है कि अपनी हर चीज को पहले से सिक्योर कर लिया जाए। जैसे हम अपनी लाइफ की सुरक्षा के लिए लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी लेते हैं, ठीक उसी तरह हम अपने सबसे बेहतरीन सपने को पूरा करने से पहले उसकी सिक्योरिटी क्यों नहीं ले सकते।

बहुत कम लोग इस बारे में जानते हैं लेकिन बीमा कंपनियों की ओर से शादी में कोई घटना हो जाने या फिर किसी वजह से शादी रद्द होने के चलते जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई के लिए वेडिंग इंश्योरेंस दिया जाता है। यह इंश्योरेंस क्लेम शादी कैंसिल होने, सामान चोरी चले जाने या फिर किसी तरह की दुर्घटना घटित होने पर पॉलिसीधारक को दिया जाता है। इस इंश्योरेंस के जरिए आप किसी भी तरह की अप्रिय स्थिति होने पर कैंसिल की गई शादी में हुए नुकसान के आघात से बच सकते हैं।

क्या होता है वेडिंग इंश्योरेंस

हर साल भारत में लगभग एक से डेढ़ करोड़ शादियां होती है। इन शादियों में हर साल 3 से 4 लाख करोड़ रुपए खर्च किए जाते हैं। एक अनुमान के मुताबिक साल 2023 तक शादियों पर 3.75 लाख करोड़ रुपए खर्च करने की संभावना जताई गई है। शादी के कई महीनों पहले ही वेन्यू, कैटरिंग, शॉपिंग, बैंड बाजे, डेकोरेशन समेत हर तरह की तैयारी पूरी कर ली जाती है। ऐसे में कई बार कुछ ऐसी स्थिति बनती है की शादी कैंसिल हो जाती है। पिछले कुछ समय की बात की जाए तो कोरोना में अचानक ही सब कुछ बंद हो गया था। ऐसे में वह लोग जिन्होंने अपनी शादी के लिए पहले से हर चीज के एडवांस बुकिंग कर ली थी काफी नुकसान में आ गए थे। इसी तरह के नुकसान से बचने के लिए और इमरजेंसी की स्थिति में वेडिंग इंश्योरेंस बहुत मददगार है।

वेडिंग इंश्योरेंस का गणित

वेडिंग इंश्योरेंस लेते समय आपको अपने वेडिंग के बजट का एक से डेढ़ प्रतिशत पैसा जमा करना होता है। एक अंदाज के मुताबिक यदि आप 20 लाख रुपए का इंश्योरेंस ले रहे हैं तो आपको 2 हजार से लेकर 20 हजार तक की प्रीमियम का भुगतान देना होगा। इसके बाद अगर इमरजेंसी की स्थिति में कुछ होता है तो आपके नुकसान की भरपाई की जाती है।

कब मिलेगा कवर

इंश्योरेंस करवाने वाले व्यक्ति को यह इंश्योरेंस कवर किसी विपरीत परिस्थिति में शादी कैंसिल होने पर दिया जाएगा। इसमें प्राकृतिक आपदा और दंगे के कारण शादी रद्द होना, दुल्हन या दूल्हे या फिर किसी सगे रिश्तेदार का दुर्घटनाग्रस्त होना, एक जगह से दूसरी जगह जाते समय पैसे चोरी हो जाना शामिल है।

• प्राकृतिक आपदा, चोरी और अन्य खतरे

पॉलिसी के तहत यदि किसी व्यक्ति की मौत होती है या फिर उसे कोई चोट आती है। अस्पताल में भर्ती होने की वजह से अगर व्यक्ति शादी में शामिल नहीं होता है तो उसे पॉलिसी के तहत वेन्यू, कैटरर, डेकोरेशन, होटल रिजर्वेशन और यात्रा टिकट का भुगतान किया जाता है।

• भौतिक नुकसान या क्षति

भौतिक नुकसान के तहत भूकंप, आग या चोरी डकैती जैसी घटनाओं में सजावट की लागत, गहने, उपकरण, कीमती चीजों और अन्य चीजों को शामिल किया जाता है।

• व्यक्तिगत दुर्घटना

पॉलिसी के तहत पॉलिसीधारक के ब्लड रिलेशन में आने वाले व्यक्तियों को आकस्मिक मृत्यु होने पर कवर दिया जाता है। इसके अलावा पूर्ण विकलांगता और आंशिक विकलांगता में उन लोगों को कवर किया जाता है जिनके नाम बीमा का लाभ उठाने से पहले घोषित किए गए होंगे।

• पब्लिक लायबिलिटी कवर के तहत विवाह स्थल पर होने वाली दुर्घटना में लगने वाली चोट और मृत्यु को कवर किया जाता है। इसमें थर्ड पार्टी को हुए नुकसान को भी कवर किया जाता है।

कब नहीं मिलेगा कवर

इंश्योरेंस करवाने के बाद यह कवर उस स्थिति में नहीं मिलेगा जब फंड की कमी के कारण शादी रुके या फिर दूल्हा-दुल्हन में से कोई एक शादी में ना पहुंचे। इसके अलावा अगर कोर्ट के आदेश और समन के कारण शादी रुकती है तो भी ये कवर नहीं दिया जाएगा।

इन कंपनियों में है सुविधा

वेडिंग इंश्योरेंस की सुविधा देश की कई इंश्योरेंस कंपनियां दे रहीं हैं। इनमे बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस, एचडीएफसी अर्गो, फ्यूचर जनराली, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड में वेडिंग इंश्योरेंस की सुविधा उपलब्ध है।

इन बातों पर निर्भर है प्रीमियम

इंश्योरेंस देने वाली कंपनियों के नियमों के मुताबिक प्रीमियम की रकम इंश्योरेंस कंपनी और चुने गए प्लान पर निर्भर करती है। हर पॉलिसी अलग-अलग चीजों को कवर करती है। जिसमें प्रॉपर्टी को क्षति पहुंचना, चोरी होना और वेडिंग कैंसिलेशन शामिल है।

लोगों में नहीं है जागरूकता

इंश्योरेंस सेक्टर से जुड़ी रिपोर्ट की माने तो हमारे देश में वेडिंग इंश्योरेंस के बारे में बहुत कम लोगों को जानकारी है। ऐसा इसलिए क्योंकि दूल्हा और दुल्हन के परिवार वाले नहीं चाहते कि अपनी शादी को लेकर उनके मन में किसी भी तरह की गलत बातें आएं। वहीं लोगों का यह भी मानना है कि वेडिंग इंश्योरेंस उन शादियों में लिया जाना चाहिए जिनका खर्चा 50 लाख से ऊपर बैठ रहा हो। ऐसी शादियों में कई राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय स्तर के कलाकारों को बुलाया जाता है जो आने के लिए पैसा लेते हैं। अगर कलाकार नहीं आते हैं तो इंश्योरेंस कंपनी बीमा कवर मुहैया कराती है।