IBPS RRB 2023: उम्मीदवारों के लिए जरूरी खबर, वैकेंसी में हुआ इजाफा, नोटिस जारी, 21 जून तक करें आवेदन

IBPS RRB 2023: इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल ने आईबीपीएस आरआरबी के वैकेंसी में वृद्धि कर दी है। रिक्त पदों की संख्या 8,594 से बढ़कर 9075 हो चुकी है।इस संबंध में नोटिस भी जारी हो चुका है, जिसे उम्मीदवार ऑफिशियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं। क्लर्क, पीओ और अन्य कई पदों पर भर्ती होनी है। आवेदन प्रक्रिया 1 जून से शुरू हो चुकी है। इच्छुक उम्मीदवार 21 जून तक आवेदन कर सकते हैं।

योग्यता, आयु सीमा और चयन प्रक्रिया

विभिन्न पदों के लिए योग्यता भी अलग-अलग निर्धारित की गई है। आवेदन करने की न्यूनतम आयु सीमा 18 साल है। वहीं अधिकतम आयु सीमा 40 साल है। हालांकि आरक्षित कैटेगरी के उम्मीदवारों को छूट दी जाएगी। उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा के आधार पर होगी, जिसका आयोजन दो चरणों में होगा। ऑफिसर स्केल 1 और ऑफिसर असिस्टेंट पद के लिए केवल मुख्य परीक्षा आयोजित होगी। सफल उम्मीदवारों को इंटेरवी के लिए बुलाया जाएगा, जिसके बाद मेडिकल परीक्षण होगा। अधिक जानकारी के लिए ऑफिशियल नोटिफिकेशन देख सकते हैं।

आवेदन प्रक्रिया

उम्मीदवार ऑफिशियल वेबसाइट www.ibps.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। जनरल , ओबीसी और ईडब्ल्यूएस कैटेगरी के कैंडीडेट्स को 850 रुपये आवेदन शुल्क का भुगतान करना होगा। वहीं एससी, एसटी और दिव्यांग कैटेगरी के उम्मीदवारों को 175 रुपये का भुगतान करना होगा।

वैकेंसी की संख्या

ऑफिसर असिस्टेंट (मल्टीपर्पस) के लिए 5,650, ऑफिसर स्केल 1 के लिए 2,560, ऑफिसर स्केल 2 के लिए 122, ऑफिसर स्केल 2 (मार्केटिंग) के लिए 38, ऑफिसर स्केल 11 (ट्रेजरी मैनेजर) के लिए 16, ऑफिसर स्केल 2 (Law) के लिए 56, ऑफिसर स्केल 2 (सीए) के लिए 64, ऑफिसर स्केल 2 (आईटी) के लिए 106, ऑफिसर स्केल 2 (जनरल बैंकिंग ऑफिसर)) के लिए 387 और ऑफिसर स्केल 3 के लिए 76 पद रिक्त हैं।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News