UGC New Portal: 16 मई को लॉन्च होगा नया पोर्टल, यूजीसी अध्यक्ष ने किया ऐलान, कही ये बात, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -

UGC New Portal:  विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (University Grants Commision) लगातार उच्च शिक्षा व्यवस्था में सुधार लाने के प्रयास में जुटा हुआ है। 16 मई को यूजीसी नया पोर्टल लॉन्च करने जा रहा है, जिसका नाम “UTSAH” रखा गया है। इस बात की घोषणा यूजीसी अध्यक्ष एम जगदीश कुमार ने की है। इस वेबसाइट को यूजर्स की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पेश करने का निर्णय लिया है।

जगदीश कुमार के मुताबिक नई वेबसाइट अधिक यूजर फ़्रेंडली, सूचनात्मक (Informative) और गतिशील होगी। पोर्टल पर सभी सूचनाओं और जानकारियों को छात्रों, शिक्षकों और यूनिवर्सिटीज जैसे उपयोगकर्ताओं के हिसाब से वर्गीकृत किया गया है। यूजर्स को किसी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने में अधिक मेहनत नहीं करनी पड़ेगी। पोर्टल के होम पेज में प्रमुख पहलुओं (Key Initiative) को दिया गया है। साथ में स्टूडेंट्स कॉर्नर, फैकल्टी कॉर्नर, विश्वविद्यालयों का डैशबोर्ड, और योजनाओं के e-Governance पोर्टल्स की जानकारी भी यहाँ उपलब्ध करवाई गई है।

यूजीसी चेयरमैन ने कहा कि, “UTSAH पोर्टल शिक्षार्थी-केंद्रित शिक्षा, डिजिटल शिक्षा, उद्योग-संस्थान सहयोग, शैक्षणिक अनुसंधान, अंतर्राष्ट्रीयकरण और भारतीय ज्ञान प्रणाली सहित महत्वपूर्ण क्षेत्रों में Output परिणामों की निगरानी और माप करने में सक्षम होगा।”

इस पोर्टल का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रीय शिक्षा नीति (National Education Policy 2020) के कार्यन्वयन और हाइयर एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स में इसकी रणनीति पहलों पर सख्त नजर रखना है। इसे संस्थानों, विश्वविद्यालयों, कॉलेजों, आईआईटी, एनआईटी और आईएनए सहित अन्य हितधारकों के साथ विचार-विमर्श करने बाद लॉन्च करने का फैसला लिया गया है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News