कोरोना के कहर के बीच Vaccination जारी, जनता ने भी दिखाई दिलचस्पी

जनता भी कोरोना वैक्सीनेशन के लिए खासी उत्साहित और एक्टिव दिख रही है। जहां 86 साल के बुजुर्ग टीकाकरण करवा रहे हैं, तो वही महिलायें भी पीछे नहीं है, 109 वर्ष की बुजुर्ग महिला ने टिका लगवाकर वो देश की सबसे उम्रदराज कोरोना वैक्सीन लगवाने वाली महिला बन गई।

इंदौर, आकाश धोलपुरे। मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के कोरोना हब बन चुके इंदौर में भले ही आने वाले दिनों में कड़ी पाबंदिया लगाई जा सकती है, लेकिन इंदौर में जिला प्रशासन का ध्यान कोविड-19 से सुरक्षा की जागरूकता के साथ ही वैक्सीनेशन और टेस्टिंग पर भी है। ये ही वजह है कि इंदौर में रिकॉर्ड स्तर पर कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) मरीज सामने आ रहे है, लेकिन सामाजिक संगठन, सोसायटी, धार्मिक संगठन और व्यापारिक वर्ग से लेकर अन्य वर्ग वैक्सीनेशन (Vaccination) को लेकर बेहद सक्रिय है और वो प्रशासन के साथ कदम के साथ कदम मिलाकर चल रहे है। जनता भी कोरोना वैक्सीनेशन के लिए खासी उत्साहित और एक्टिव दिख रही है। जहां 86 साल के बुजुर्ग टीकाकरण करवा रहे हैं, तो वही महिलायें भी पीछे नहीं है, 109 वर्ष की बुजुर्ग महिला ने टिका लगवाकर वो देश की सबसे उम्रदराज कोरोना वैक्सीन लगवाने वाली महिला बन गई।

यह भी पढ़ें….रेल पटरी चोरी करने वाले गिरोह का मुखिया गिरफ्तार, कई बड़ी स्टील कंपनियों के नाम भी आ सकते है सामने

इंदौर में वैक्सीनेशन महोत्सव के दौरान और उसके बाद भी 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगो मे उत्साह है। इसी का परिणाम है तीन दिवसीय वैक्सीनेशन महोत्सव के दौरान कही शत प्रतिशत तो कही पूरी सोसायटी लामबंद होकर वैक्सीनेशन प्रोग्राम में सरकार और प्रशासन के साथ है। इंदौर में इन दिनों निशुल्क और शुल्क के साथ ही वैक्सीनेशन जारी है। जहां रविवार को चोइथराम अस्पताल के सहयोग से ट्रेजर टाउनशिप बिजलपुर में वैक्सीनेशन प्रोग्राम में 86 वर्षीय बाबूराव कानूनगो और उनकी 84 वर्षीय पत्नि सुलोचना कानूनगो ने वैक्सीनेशन करवाया तो वही दूसरी ओर संयोगितागंज अनाज मंडी में 85 साल की पुष्पा मोरवानी ने वैक्सीन लगवाई। ट्रेजर टाउनशिप के राज मोरवानी ने बताया कि ट्रेजर टाउनशिप में मॉर्निंग क्लब, टी टाउन रहवासी संघ, जय गणेश मित्र मण्डल, ट्रेजर सांस्कृतिक मंच के सदस्यों ने बड़ी संख्या में भाग लिया वही छावनी अनाज मंडी के अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने बताया कि तीन दिनों 800 से ज्यादा लोगो ने वैक्सीनेशन करवाया है और आगे भी हमारी मुहिम जारी रहेगी। इंदौर में ये तो सिर्फ उदाहरण भर है लेकिन इंदौर में इमली बाजार, आयुर्वेदिक कॉलेज सहित अनेक स्थानों पर वैक्सिनेशन प्रोग्राम हुआ तो वही इल्वा सोसायटी सहित कई बड़े ग्रुप मंगलवार से वैक्सीनेशन प्रोग्राम में भाग लेंगे।

इधर, इंदौर सहित समूचे प्रदेश में शासन ने कोविड टेस्ट के लिए आरटीपीसीआर की टेस्टिंग दर में और कमी की है। अब सभी निजी लैब में आरटी-पीसीआर टेस्ट का शुल्क ₹700 और अगर घर से सेम्पल कलेक्शन करवाया जाता है तो ₹ 200 उसके अतिरिक्त देना पड़ेंगे , इसी तरह रेपिड एंटीजन टेस्ट की दर ₹300 और घर से सैंपल लेकर टेस्ट करने की दर में 200 रु और लगेंगे। अभी आरटीपीसीआर टेस्ट निजी लैब में 1000 में किया जा रहा था जिसमें ₹300 की कमी की गई है। वही वैक्सीनेशन भले ही इंदौरवासियो के लिए एक सौगात है। लेकिन इंदौर में बढ़ते संक्रमण ने भी लोगो के साथ प्रशासन की चिंता बढ़ा रखी है। रविवार रात को इंदौर में रिकॉर्ड 788 लोग पॉजिटिव आये है। जिसके चलते प्रशासन अब मास्क और सोशल डिस्टेसिंग को लेकर सख्ती बरतने की तैयारी में है। फिलहाल, इंदौर में कोरोना का कहर जारी है लेकिन वैक्सीनेशन से लोगो को बहुत उम्मीदें है।

यह भी पढ़ें….Transfer : अब सीधी एसपी ने किए पुलिसकर्मियों के तबादले, यहां देखें लिस्ट