अब चुनाव आयोग के वोटिंग ऑईकॉन नहीं होंगे सोनू सूद

लेकिन राजनीति में आने की घोषणा के बाद चुनाव आयोग ने यह कदम उठाया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद को मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए पंजाब का स्टेट आईकॉन नियुक्त किया गया था। लेकिन चुनाव आयोग ने उनकी नियुक्ति को रद्द कर दिया है।

यह भी पढ़े… CDAC Vacancy 2022 : सीडेक में कई पदों पर निकली भर्ती

हम आपको बता दें कि निर्वाचन आयोग ने करीब एक साल पहले सोनू सूद को पंजाब का ‘आइकॉन’ नियुक्त किया था। पंजाब के मुख्य चुनाव अफसर डॉ. एस. करुणा राजू ने कहा कि 4 जनवरी 2022 के बाद सोनू सूद इस नियुक्ति पर नहीं रहेंगे हैं। बताया जा रहा हैं कि सोनू सूद की बहन मालविका सूद सच्चर इस बार चुनाव लड़ने वाली हैं। इसकी घोषणा सोनू सूद ने ही मोगा में की थी। मालविका मोगा से चुनाव लड़ेंगी। हालांकि वह किसी राजनीतिक दल से नहीं जुड़े हैं लेकिन राजनीति में आने की घोषणा के बाद चुनाव आयोग ने यह कदम उठाया है।

यह भी पढ़े… जन्मदिन पर मिली साढ़े तीन लाख की बाइक बनी मौत का कारण

गौरतलब है कि बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद मूल रूप से पंजाब के मोगा जिले के हैं और कोरोना काल के दौरान प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने में मदद करने की वजह से चर्चा में आए थे। वहीं कई बॉलीवुड स्टार लगातार राजनीति में आने को लेकर दिलचस्पी दिखा रहे हैं। इस संबंध में पहले वह दिल्ली में आम आदमी पार्टी के नेता अरविंद केजरीवाल से मिले। फिर उन्होंने चंडीगढ़ में पंजाब की कांग्रेस सरकार के CM चरणजीत चन्नी से मुलाकात की। फिर वह अकाली दल प्रधान सुखबीर बादल से मिले। इससे पहले वह CM रहते कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिल चुके हैं। इस कारण से चुनाव आयोग को सोनू सूद से पल्ला झाड़ना पड़ा।