कोरोना कर्फ्यू

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में 31 मई तक कोरोना कर्फ्यू (corona curfew) में सख्ती लगा दी गई है। राजधानी भोपाल (bhopal) में कर्फ्यू बढ़ाए जाने के साथ ही अब शहर को तीन जनों (three zone) में बांटने का निर्णय लिया गया है। दरअसल चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग द्वारा भोपाल में कोरोना नियंत्रण के लिए बैठक ली गई। इस बैठक में निर्णय लिया गया कि अब माइक्रो प्लानिंग (micro-planning) के तहत भोपाल में कोरोना नियंत्रण किया जाएगा। इसके लिए 1 सप्ताह तक जहां एक तरफ टेस्टिंग (testing) बढ़ाई जाएगी। वहीं दूसरी तरफ शहर को तीन रंग रेड, ऑरेंज, ग्रीन जोन में बांट दिया जाएगा।

Read More: कोरोना से जिंदगी की जंग हारे पूर्व मंत्री, इलाज के दौरान निधन, पार्टी में शोक की लहर

इतना ही नहीं कोरोना वायरस की मॉनिटरिंग की जाएगी और स्व सहायता समूह को भी इस कार्य से जोड़ा जाएगा। प्रतिदिन मॉनिटरिंग की दिशा में कार्य करने के बाद टेस्टिंग और कंटेनमेंट जोन पर विचार किए जाएंगे। वही अगले 10 दिन तक के लिए सरकार ने विशेष रणनीति बनाई है। बैठक में विश्वास सारंग (vishwas sarang) ने कहा कि जिन इलाकों में संक्रमित हुए हैं। जहां अधिक केस हैं। उसे रेड जोन, 2 या 4 केस हैं, उसे येलो और एक भी संक्रमित नहीं होने वाले इलाके को ग्रीन जोन में रखा जाए।

Read More: तीसरी लहर से बचाने बच्चों से बातचीत करेंगे मंत्री और प्रशासनिक अधिकारी

साथ ही चरणबद्ध तरीके से भोपाल को खोले जाने पर भी सहमति बनी है। अधिकारियों से चर्चा करते हुए सारंग ने कहा कि सबसे पहले क्या क्या खोला जाए और बाहर आने के बाद लोगों को क्या-क्या एहतियात रखा जाए। इस पर विचार करना अनिवार्य है। वहीं ग्रामीण क्षेत्र में किल कोरोना 4 अभियान की शुरुआत की जानी चाहिए। जिस जगह कोरोना के एक भी केस हो। वहां टेस्टिंग जारी रखने के निर्देश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिए हैं। कुछ जिलों में मोबाइल टेस्टिंग की व्यवस्था की गई है।