रोजगार मांगने गए युवाओं पर दर्ज हुआ केस, दिग्विजय सिंह सहित कमलनाथ ने की बड़ी मांग

केस दर्ज होने पर बेरोजगार विरोधी आंदोलन के सदस्य द्वारा शुक्रवार को बड़ी संख्या में अंबेडकर गार्डन में एकत्रित होकर इसके खिलाफ प्रर्दशन किया गया।

बड़वानी, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जिसके बाद अब कांग्रेस Shivraj government पर हमलावर हो गई है। दरअसल मामला बड़वानी (badwani) जिले का है। जहाँ बेरोजगार युवाओं पर केस दर्ज होने के बाद शुक्रवार को थाने के सामने हंगामा किया गया। इस दौरान ऑल इंडिया यूथ डेमोक्रेटिक ऑर्गेनाइजेशन (All India Youth Democratic Organization) द्वारा थाने का घेराव कर FIR वापस लेने की मांग की गई। हालांकि अब युवाओं की इस मांग को पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह (digvijay singh) और कमलनाथ (kamalnath) का समर्थन मिला है। राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने ट्वीट करते हुए FIR वापस लिए जाने की मांग की है।

बता दें कि बेरोजगार विरोधी आंदोलन के सदस्य ने 23 जून को कलेक्ट्रेट तक रैली निकालकर लंबित पदों पर भर्ती प्रक्रिया शुरू करने और बेरोजगारी कम करने की मांग को लेकर SDM को CM के नाम का आवेदन दिया था। जिसके बाद धारा 144 का उल्लंघन होने पर पुलिस द्वारा 25 से 30 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज किया गया था। केस दर्ज होने पर बेरोजगार विरोधी आंदोलन के सदस्य द्वारा शुक्रवार को बड़ी संख्या में अंबेडकर गार्डन में एकत्रित होकर इसके खिलाफ प्रर्दशन किया गया।

Read More: India Smart City Contest 2020: MP की झोली में 11 अवार्ड, सागर जिला भी हुआ स्मार्ट

वही सदस्य द्वारा कोतवाली का घेराव कर नारेबाजी की गई। जिसके बाद शाम 4:30 बजे तक ये हंगामा चलता रहा। इस मामले में संगठन के सदस्यों का कहना है कि पुलिस ने केस दर्ज किए हैं। पुलिस बदले की भावना से काम कर रही है। जो गैर लोकतांत्रिक कार्रवाई है। वही सदस्यों का कहना है कि अगर तत्काल प्रभाव से FIR वापस नहीं ली गई तो पूरे प्रदेश में बेरोजगारों द्वारा आंदोलन किया जाएगा।

अब इस मामले में छात्रों को दिग्विजय सिंह का साथ मिला है। राज्यसभा सांसद दिग्विजय सिंह ने कहा कि बेरोजगार आदिवासी युवकों को रोजगार देने की वजह BJP  सरकार की पुलिस उनपर डंडे बरसा रही है। उन पर मुकदमा दायर कर रही है, जो कि अनुचित है। वहीं दिग्विजय सिंह ने तत्काल प्रभाव से प्रकरण वापस लिए जाने की मांग की है। दिग्विजय सिंह के अलावा कमलनाथ ने भी उनकी इस मांग का समर्थन किया है। इसके साथ ही कई कांग्रेसी नेताओं द्वारा शिवराज सरकार पर जमकर हमला बोला जा रहा है।