दावा : भारत की ‘Warm’ वैक्सीन सभी Corona Varients पर सफल! इस तरह करती है काम

इस फॉर्मुलेशन को वार्म वैक्सीन का नाम दिया गया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। दुनिया भर में अब तक corona के कई वेरिएंट सामने आ चुके हैं corona के नए-नए Varients सामने आने के बाद वैज्ञानिक और डॉक्टर द्वारा लगातार एक ऐसे एंटीडोट (antidot) की तैयारी की जा रही है। जो corona के सभी वेरिएंट पर सफल साबित हो सके। इसी बीच भारत को एक बड़ी उपलब्धि हाथ लगी है।

दरअसल स्टडी की मानें तो भारत में एक ऐसी Vaccine तैयार की है जो Corona की सभी वेरिएंट पर सफल है। भारतीय विज्ञान संस्थान IISc के वैज्ञानिक ने बायोटेक फॉर्म mynvax के साथ मिलकर 1 वैक्सीन फॉर्मूलेशन को तैयार किया है। यह वह Vaccine है, corona के सभी प्रमुख वेरिएंट पर प्रभावी साबित हुई है। अध्ययन की मानें तो भारतीय विज्ञान संस्थान बेंगलुरु द्वारा विकसित किए गए कोरोना फॉर्मूलेशन को Corona के सभी वेरिएंट अल्फा (alpha),  बीटा (bita), कप्पा (kappa) और डेल्टा (delta) के खिलाफ प्रभावी माना गया है।

Read More: Video: गुस्से में ऊर्जा मंत्री, निरीक्षण के दौरान अधिकारियों को ऐसे लगाई फटकार

गुरुवार को एसीएस इनफेक्शियस डिजीज जर्नल (ACS Infectious Disease Journal) में प्रकाशित हुई शोध से पता चला है की IISc और इनक्यूबेटेड बायोटेक स्टार्टअप maynvax द्वारा चूहों पर फॉर्मूलेशन का इस्तेमाल किया गया है और चूहों के अंदर मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली (immune sysstem) विकसित होते देखी गई है। जानकारी के मुताबिक Warm Vaccine वो Vaccine फॉर्मूलेशन है। जो 37 डिग्री सेंटीग्रेड पर 1 महीने तक रखा जा सकता है जबकि 100 डिग्री सेंटीग्रेड पर 90 मिनट तक इसे सहेज कर रख सकते हैं। जिसकी वजह से इस फॉर्मुलेशन को वार्म वैक्सीन (Warm Vaccine) का नाम दिया गया है।

किसी Vaccine को देश के किसी भी हिस्से में भेजने के लिए कोल्ड चैन (cold chain) का निर्माण करना होता है। जिसमें एक निश्चित तापमान को तैयार कर उसमें वैक्सिन को सुरक्षित रखने की कवायद की जाती है। वही वैक्सिन की सप्लाई कोल्ड चेन के जरिए होने से इस पर काफी खर्च आता है जबकि वार्म वैक्सीन फॉर्मूलेशन से सप्लाई में तेजी आएगी।