किसान नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री का निधन, अस्पताल में ली अंतिम सांस, सीएम ने जताया शोक

अटल बिहारी वाजपेई की सरकार में केंद्रीय मंत्री के तौर पर उन्होंने अपनी सेवाएं दी है।

कर्नाटक, डेस्क रिपोर्ट। किसान नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबागौड़ा पाटिल (Former Union Minister Babagowda Patil) का निधन हो गया है। 76 वर्षीय पूर्व केंद्रीय मंत्री का इलाज अस्पताल (hospital) में चल रहा था। शुक्रवार देर रात उन्होंने अंतिम सांस ली। वही उनके निधन पर पार्टी में शोक की लहर दौड़ पड़ी है।

दरअसल बाबागौडा पाटिल का जन्म 6 जनवरी 1945 को बेलगावी जिले के बागेवाड़ी में हुआ था। पाटिल 1989 में कित्तूर सीट से निर्दलीय विधायक चुने गए थे। जिसके बाद वर्ष 1998 में उन्होंने बीजेपी (bjp)की टिकट से बेलगाम सीट से लोकसभा चुनाव लड़ा था। राजनीति में प्रवेश के साथ ही पाटिल द्वारा किसानों (farmer) के हक में अपनी आवाज मुखर की गई थी।

Read More: SBI ने अपने ग्राहकों को किया अलर्ट, 44 करोड़ खाताधारकों के लिए बड़ी खबर

बाबागौड़ा पाटिल अटल बिहारी वाजपेई (atal bihari vajpayee) के सरकार में ग्रामीण विकास राज्य मंत्री भी रहे। उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए बीएस येदियुरप्पा (B.S. Yedurappa) ने कहा कि पाटिल किसानों के संघर्ष में हमेशा आगे रहे। कर्नाटक के मुख्यमंत्री सदानंद गौड़ा ने ट्वीट करते हुए कहा कि वह कर्नाटक राज्य सहित संघ के संस्थापक सदस्य में से थे। किसानों के लिए उन्होंने अपनी आवाज मुखर की थी। अटल बिहारी वाजपेई की सरकार में केंद्रीय मंत्री के तौर पर उन्होंने अपनी सेवाएं दी है। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे।

इसके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबागौड़ा पाटिल के निधन पर कर्नाटक के ग्रामीण विकास और पंचायती राज्य मंत्री के एस ईश्वरप्पा सहित अन्य बीजेपी दिग्गज नेताओं द्वारा उनके निधन पर शोक व्यक्त किया गया है।