IMD Alert : डिप्रेशन में बदला चक्रवाती सिस्टम, मानसून की वापसी से पहले दिखेगा असर, 15 राज्यों में बारिश का ऑरेंज अलर्ट, 3 में बढ़ेगा तापमान

पर्वतीय राज्यों में भी बारिश का सिलसिला देखने को मिल सकता है। राजधानी में भी मौसम में परिवर्तन के आसार नजर आ रहे हैं।

IMD

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में सामान्य से अधिक बारिश (heavy rain) रिकॉर्ड करने के बाद अब जल्दी मानसून (monsoon) की वापसी देखने को मिल सकती है। देश के कई राज्यों में बारिश का सिलसिला जारी है। वहीं कई राज्यों में मौसम विभाग (IMD Alert) ने भारी बारिश का पूर्वानुमान जारी किया। मौसम विभाग की माने तो पूर्वी सहित पूर्वोत्तर राज्यों में 5 दिनों तक बारिश की स्थिति मजबूत रहेगी।

इन क्षेत्रों में भारी बारिश का येलो रेड अलर्ट (yellow Red Alert) घोषित किया गया है। साथ ही तेज हवा चलने की भी आशंका जताई गई है।इसके अलावा पर्वतीय राज्यों में भी बारिश का सिलसिला देखने को मिल सकता है। राजधानी में भी मौसम में परिवर्तन के आसार नजर आ रहे हैं।

दिल्ली में बारिश

राजधानी दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से मौसम का मिजाज बदला बदला शहर लोगों को गर्मी से राहत मिली है। आसमान में बादल छाए हुए हैं। 20 सितंबर को भी मध्यम बारिश की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग के मुताबिक आसमान में काले बादल छाए रहेंगे। दिल्ली में न्यूनतम तापमान 24 जबकि अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया जा सकता है। तापमान में 2 फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी। इसके अलावा शाम तक बहारों का सिलसिला जारी रहेगा।

यूपी में बारिश

उत्तर प्रदेश के कई जिलों में भारी बारिश से ही तेज हवा चलने का अलर्ट जारी किया गया। मौसम विभाग की माने तो उत्तर पश्चिमी यूपी के कई इलाकों में आज तेज हवाओं के साथ बारिश की संभावना जताई गई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने सोमवार और मंगलवार को उत्तर प्रदेश सहित दक्षिण पश्चिम मानसून की वापसी के लिए परिस्थितियां अनुकूल बताते हुए कई जिलों में बारिश और तेज हवाओं का पूर्वानुमान जारी किया।

आज पूर्वी और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बारिश की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग ने कई क्षेत्रों में निम्न दबाव के क्षेत्र निर्मित होने की बात कही है। कई जगह बादल छाए रहेंगे तापमान में दो से तीन फीसद की गिरावट रिकॉर्ड की जाएगी। दक्षिण पश्चिमी मानसून की वापसी से पहले परिस्थिति अनुकूल बनी हुई है। इधर छत्तीसगढ़ के अलावा पूर्वी उत्तर प्रदेश में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है। 22 सितंबर तक लोगों को सचेत और सतर्क रहने की सलाह दी गई है।

Read More : Redmi K60 करेगा दिलों पर राज, मिलेगा iPhone 14 Pro जैसा फीचर, जानें खासियत

बिहार के इन क्षेत्रों में बारिश

बिहार के कई जिलों में भी भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। इसके लिए अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी है। दरअसल 5 दिनों तक बिहार के कई क्षेत्रों में मानसून का असर दिखेगा। हालांकि इसके बाद मानसून की सक्रियता पूर्ण रूप से खत्म हो जाएगी। मध्यम दर्जे की बारिश से कुछ इलाकों में तेज बारिश की भी संभावना जताई गई है। मेघ वर्जन को लेकर पूर्वानुमान जताया हैं। सितंबर माह के अंत तक मानसून की स्थिति बनी रहेगी। सक्रिय अवस्था में मानसून के संकेत मिल रहे हैं। 30 सितंबर तक कई क्षेत्रों में बूंदाबांदी की संभावना जताई गई है। हालांकि मुजफ्फरपुर और उत्तर भारत के जिलों में बारिश का सिलसिला जारी रहेगा।

झारखंड में बारिश

उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दबाव के क्षेत्र की सक्रिय स्थिति मजबूत हो रही है। जिसके कारण उड़ीसा पश्चिम बंगाल से ही झारखंड के कई जिलों में बारिश की संभावना जताई गई है। मौसम विभाग की माने तो झारखंड के कई हिस्सों में देर शाम बूंदाबादी देखने को मिल सकती है हालांकि आसमान में बादल छाए रहेंगे तीव्र हवा चलने की भी संभावना जताई गई है। 22 सितंबर तक पर पलामू प्रमंडल में तब जबकि मध्य भाग राजधानी और आसपास के हिस्से में भारी बारिश का रेड अलर्ट घोषित किया गया है। इसके अलावा 27 सितंबर तक क्षेत्रों में बारिश का दौर जारी रहेगा।

उड़ीसा और पश्चिम बंगाल में बारिश

उड़ीसा में भी मौसम विभाग ने भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। बंगाल की खाड़ी में चक्रवाती परिसंचरण के कम दबाव में तब्दील होने की वजह से सोमवार को उड़ीसा के विभिन्न हिस्सों में बारिश रिकॉर्ड की गई है। इसके अलावा मौसम विभाग ने उड़ीसा के 12 जिलों में जोरदार बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग के मुताबिक गुरुवार तक पूरे राज्य में भारी बारिश और आंधी की चेतावनी जारी की गई है। इसके लिए रेड अलर्ट घोषित किया गया है।

क्षेत्रों में कम बारिश की संभावना, तापमान बढ़ेगा

दरअसल मौसम प्रणाली की गतिविधि मैं आ रही कमी की वजह से उत्तर-पश्चिम भारत के एंटी साइक्लोनिक प्रवाह भी बदलने वाली है । जिसके कारण 5 दिनों के अंदर पश्चिमी राजस्थान सहित पंजाब हरियाणा चंडीगढ़ और दिल्ली में कम बारिश की आशंका जताई गई है। मौसम विभाग ने इन क्षेत्रों में तापमान में वृद्धि का भी अलर्ट जारी किया है। वहीं मध्यप्रदेश के कुछ क्षेत्रों में तापमान में दो से तीन फीसद की वृद्धि देखने को मिल सकती है। इधर केरल कर्नाटक में भी एक बार फिर से तापमान में बढ़ोतरी की संभावना जताई गई है।

पर्वतीय राज्यों में बारिश बर्फ़बारी

पर्वतीय राज्यों की बात करें तो जल्दी ही देश में ठंड की दस्तक होगी। पर्वतीय राज्य में बर्फबारी का सिलसिला शुरू हो गया है। वहीं उत्तर भारत की तरफ से होने वाली बर्फबारी के कारण एक बार फिर से देश में ठंड बढ़ने में यह बर्फबारी सहायक होगी। ठंडी हवाओं के संचालन के साथ ही दिल्ली और उत्तर-पूर्व राज्यों में जल्द ठंड की दस्तक देखने को मिल सकती है।

हैदराबाद तेलंगाना में बारिश का अलर्ट

हैदराबाद में तेलंगाना के उत्तर और पूर्वोत्तर जिलों में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है और उत्तर पश्चिम जिलों में भारी वर्षा होने की संभावना है

मौसम प्रणाली

  • एक कम दबाव का क्षेत्र उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल तट से दूर बंगाल की उत्तर-पश्चिमी खाड़ी के ऊपर बना हुआ है और इससे संबंधित चक्रवाती परिसंचरण है।
  • इसके उत्तर-पश्चिम की ओर उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल तट की ओर बढ़ने और अगले 12 घंटों के दौरान और अधिक चिह्नित होने की संभावना है।
  • इसके अतिरिक्त, एक चक्रवाती परिसंचरण दक्षिण उत्तर प्रदेश के मध्य भागों में बना हुआ है, जबकि एक पश्चिमी विक्षोभ एक ट्रफ के रूप में देखा जाता है जो अक्षांश के उत्तर में लगभग 65°E के 28 डिग्री N साथ-साथ चलता है।
  • पिछले 24 घंटों में ओडिशा के अधिकांश हिस्सों में कम दबाव के क्षेत्र में मध्यम से भारी बारिश हुई है।
  • सिस्टम के परिधीयों ने पश्चिम बंगाल, झारखंड, बिहार, छत्तीसगढ़, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के कुछ हिस्सों में मौसम की गतिविधि का कारण बना है।
  • इसके आगे बढ़ने से उत्तर प्रदेश और विदर्भ को कवर करते हुए मध्य क्षेत्र और दोनों तरफ मौसम की गतिविधियों का विस्तार होगा।
  • चूंकि दक्षिण-पश्चिम मानसून अगले कुछ दिनों में उत्तर पश्चिमी भारत के कुछ हिस्सों से वापसी के समय के करीब पहुंच रहा है, इसलिए ये मानसून सिस्टम मध्य यूपी से आगे नहीं जाएंगे।
  • इन प्रणालियों में पूर्व और मध्य उत्तर प्रदेश के मैदानी इलाकों की तलहटी के निकट की ओर मुड़ने और आगे बढ़ने की प्रवृत्ति होगी।