सीएम शिवराज के अधिकारियों को निर्देश- ना करें अभद्रता, इन कलेक्टर्स से जाहिर की नाराजगी

प्रदेश के इंदौर और सागर जिले में लगातार बढ़ रही पॉजिटिविटी को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संक्रमण को कंट्रोल करने के लिए सिस्टम से असंतुष्ट नजर आए।

shivraj

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण (Corona infection) के बीच पुलिस अधिकारियों द्वारा सख्ती को लेकर किए जा रहे है। लगातार अभद्र व्यवहार के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने मामले में संज्ञान लिया है। उन्होंने सभी कलेक्टर (collectors) सहित पुलिस अधीक्षकों (Superintendents of Police) को विशेष निर्देश दिए हैं। सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा कि कोरोना संक्रमण के चेन को रोकने के लिए सख्ती आवश्यक है लेकिन जनता के साथ अभद्र व्यवहार नहीं किया जाना चाहिए।

सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में कोरोना के प्रकरण में तेजी से गिरावट देखी जा रही है। 45 जिले ऐसे हैं, जहां संक्रमण की दर 5 फीसद से कम हो गई है। वहीं मध्य प्रदेश देश में 19वें स्थान पर पहुंच गया है। 31 मई तक कोरोना संक्रमण की पॉजिटिविटी रेट शून्य करने की तरफ हम लोग अग्रसर हो रहे हैं। लेकिन प्रदेश के कुछ कोरोनावरियर्स द्वारा जनता के साथ अभद्र व्यवहार की खबर सामने आ रही है। कुछ प्रकरण ऐसे आए हैं, जो शर्मनाक है।

Read More: नेहरू- पीएम मोदी पर किए ट्वीट को लेकर ट्रोल हुए दिग्विजय, BJP ने कहा- हद कर दी आपने

सीएम शिवराज ने सभी कलेक्टर और पुलिस अधीक्षकों को निर्देश दिए हैं कि जनता के साथ शालीन व्यवहार होना आवश्यक है और उनके साथ अभद्र व्यवहार नहीं किया जाए। प्रदेश के इंदौर और सागर जिले में लगातार बढ़ रही पॉजिटिविटी को देखते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान संक्रमण को कंट्रोल करने के लिए सिस्टम से असंतुष्ट नजर आए। इस दौरान उन्होंने सागर कलेक्ट्रेट से जवाब तलब करते हुए कहा कि जब पूरे प्रदेश में पॉजिटिविटी रेट कम है तो सागर की पॉजिटिविटी रेट बढ़ने का कारण क्या है। उन्होंने इंदौर में बढ़ते केसों को लेकर कहा कि इंदौर में अथक प्रयासों की आवश्यकता है। वार्ड समिति को सक्रिय किया जाए और साथ ही हर संभव प्रयास किए जाए।

सीएम शिवराज ने बताया कि किल कोरोना अभियान के तहत करीबन 6 करोड़ से अधिक ग्रामीण जनता का सर्वेक्षण पूरा कर लिया गया है। घर-घर जाकर कोरोना के प्राथमिक बीमारी की पहचान की जा रही है और उन्हें निशुल्क मेडिकल के उपस्थित करवाए जा रहे हैं। प्रदेश में कोविड केंद्र के माध्यम से निशुल्क मेडिकल किट वितरित किए गए हैं।