भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। केंद्रीय मंत्रिमंडल (central cabinet) में फेरबदल की अटकलों के बीच मंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) बुधवार को केंद्रीय मंत्रिपरिषद (union council of ministers) से मुलाकात करेंगे। वह अपने-अपने मंत्रालयों द्वारा अब तक किए गए कार्यों की समीक्षा के लिए केंद्रीय मंत्रियों के साथ व्यक्तिगत बैठकें कर रहे हैं। राजनीतिक पर्यवेक्षकों और सूत्रों की माने ये बैठकें संभावित मंत्रिमंडल विस्तार (Modi cabinet expansion) और फेरबदल से पहले की एक कवायद थी। हालांकि इस मामले पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। अगर ऐसा होता है तो 30 मई, 2019 से शुरू हुई मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में यह पहला कैबिनेट फेरबदल होगा।

कयास लगाए जा रहे थे कि केंद्रीय मंत्रिमंडल में वरुण गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया (scindia) को अहम पद मिल सकते हैं। इधर चर्चाओं की माने तो ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) को उनके पिता की तरह ही रेल मंत्रालय सौंपा जा सकता है। सूत्रों का कहना है कि असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से मिलने नई दिल्ली पहुंचे। सोनोवाल 2016 से पिछले महीने तक असम के सीएम थे। भले ही भाजपा के नेतृत्व वाले गठबंधन ने चुनाव जीता लेकिन सोनोवाल की जगह हेमंत बिस्वा सरमा को असम का मुख्यमंत्री बनाया गया। जिसके बाद असम के पूर्व मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल को मोदी कैबिनेट में जगह मिल सकती है।

Read More: 52 लाख कर्मचारियों को राहत, इस महीने तक होगा DA का भुगतान, मिलेगी बढ़ी हुई सैलरी

इस बीच जहां तक ​​​​नए मोदी मंत्रिमंडल में शामिल होने वालों का सवाल है। उनमें जिन नामों की चर्चा है :-

ज्योतिरादित्य सिंधिया: पूर्व केंद्रीय मंत्री और चार बार के लोकसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मार्च 2020 में कांग्रेस छोड़ दी थी। सिंधिया बीजेपी में शामिल हो गए थे और अभी वो बीजेपी से राज्यसभा सांसद हैं। सिंधिया के दलबदल के कारण मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार गिर गई थी।

वरुण गांधी: मेनका गांधी और दिवंगत संजय गांधी के बेटे वरुण गांधी पीलीभीत से भारतीय जनता पार्टी के सांसद हैं। लम्बे समय से वो बीजेपी में हैं और माना जा रहा है कि मोदी Government वरुण को कैबिनेट में महत्वपूर्ण पद दे सकती है।

दिनेश त्रिवेदी : तृणमूल कांग्रेस के पूर्व नेता और केंद्रीय मंत्री दिनेश त्रिवेदी मार्च में बीजेपी में शामिल हुए थे। त्रिवेदी ने फरवरी में राज्यसभा और तृणमूल कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था।

भूपेंद्र यादव: भूपेंद्र यादव राजस्थान से भारतीय जनता पार्टी के राज्यसभा सांसद हैं।

अश्विनी बैष्णब: ओडिशा-कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी अश्विनी बैष्णब जून 2019 में भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गए।

इससे पहले प्रधान मंत्री निवास पर 20 जून को पीएम मोदी ने गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और रेल और वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल सहित केंद्रीय मंत्रियों के साथ बैठक की थी। बंद कमरे में चली इस बैठक में कई चर्चा हुई थी।

गौरतलब हो कि लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान और भाजपा के सुरेश अंगड़ी के निधन के बाद एक कैबिनेट मंत्री और एक राज्य मंत्री का पद रिक्त है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन से बाहर हुए शिरोमणि अकाली दल और शिवसेना के प्रतिनिधियों ने दो मंत्री पद भी खाली कर दिए थे। वहीँ वर्तमान में कई मंत्री कई विभागों के बोझ तले दबे हैं। कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर भी ग्रामीण विकास का प्रबंधन करते हैं और रेल मंत्री पीयूष गोयल के पास वाणिज्य और उद्योग और खाद्य और उपभोक्ता मामले हैं।