MP Board: 12वीं के छात्रों के लिए बड़ी खबर, रिजल्ट के लिए फॉर्मूला तय, CM की मंजूरी

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश में MP Board के 12वीं के छात्रों के लिए बड़ी खबर है। लंबी बैठकों और चर्चाओं के बाद आज सोमवार को आखिरकार 12वीं के रिजल्ट के फॉर्मूला पर फैसला हो गया है।मुख्यमंत्री (Shivraj Singh Chauhan) की बैठक में तय किया गया है कि 12वीं का रिजल्ट 10वीं के आधार पर तैयार किया जाएगा। खास बात ये है कि इसमें बेस्ट 5 विषयों से अंक भी लिए जाएंगे।

यह भी पढ़े.. राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कांग्रेस के इस पद से दिया इस्तीफा, ये है बड़ा कारण

दरअसल, आज सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में मंत्री समूह की बैठक बुलाई गई थी,  जिसमें मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (Madhya Pradesh Board of Secondary Education) और स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) के अधिकारी शामिल हुए थे और सभी ने फॉर्मूले को लेकर अपना अपना पक्ष रखा।

बैठक में MP Board कक्षा 10वीं के फाइनल रिजल्ट के आधार और 10वीं की सालाना परीक्षा और 12वीं की तिमाही परीक्षा के नंबरों के आधार पर रिजल्ट तैयार करने को लेकर सुझाव मंत्री समूह को दिए थे। इसके बाद बैठक में तय किया गया है कि MP Board 12वीं का रिजल्ट 10वीं बेस्ट ऑफ फाइव सब्जेक्ट के आधार पर  बनाया जाएगा। इसमें बेस्ट 5 विषयों से अंक भी लिए जाएंगे।

यह भी पढ़े.. MP Unlock 2021: गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कब-कैसे खुलेंगे कॉलेज और सिनेमा

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि MP Board कक्षा 12वीं के अंकों का निर्धारण कक्षा 10वीं के विभिन्न विषयों में प्राप्त अंकों को बेस्ट ऑफ फाइव के आधार पर किया जाए। यदि विद्यार्थी परिणाम सुधारना चाहते हैं तो वे परीक्षा देकर परिणाम सुधार सकते हैं।

मध्य प्रदेश में MP Board 12वीं के 7.50 लाख विद्यार्थी हैं। अब संभावना जताई जा रही है कि जुलाई के अंत तक रिजल्ट बनाकर घोषित किया जा सकता है, हालांकि अभी तक इसकी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। उम्मीद जताई जा रही है कि एक दो दिन में स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार या मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस पर स्थिति स्पष्ट कर सकते है।

बता दे कि स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार(School Education Minister Inder Singh Parmar)  ने छात्रों के सामने यह ऑफर भी रखा है कि अगर वे 12 वीं का कोई छात्र बेहतर परिणाम या सुधार के लिये परीक्षा देना चाहेगा तो उसके लिये विकल्प खुला रहेगा। परिस्थितयां सामान्य होने के बाद ऐसे छात्रों की 12 वीं की परीक्षा ली जाएंगी।प्रदेश के किसी भी विद्यार्थी (Student) को घबराने की जरूरत नहीं है। 12वीं कक्षा का रिजल्ट वैज्ञानिक पद्धति के द्वारा तैयार किया जाएगा।