MP By-Election : मप्र में निर्वाचन आयोग ने शुरू की तैयारी, प्रारंभिक जांच पूरी

वहीं इन क्षेत्रों के लिए तीन हजार मतदान केंद्र सहित 9600 ईवीएम मशीन की तैयारी की गई है।

दमोह उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में फिलहाल भले ही उपचुनाव (MP By-election) को टाल दिया गया हो लेकिन निर्वाचन आयोग (election commission) सभी तैयारी पूरी रखना चाहती है। इसीलिए खंडवा लोकसभा (khandwa loksabha) सहित पृथ्वीपुर, जोबट और रैगांव विधानसभा क्षेत्र में उपचुनाव के लिए निर्वाचन आयोग ने तैयारी शुरू कर दी है। निर्वाचन आयोग द्वारा ईवीएम (EVM) के पहले दौर की जांच का काम पूरा हो गया है।

दरअसल प्रदेश में खंडवा लोकसभा सीट पृथ्वीपुर और जोबट, रैगांव में उपचुनाव (MP By-election) होने हैं। जिसके लिए इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (EVM) की पहली दौर की जांच का काम पूरा हो गया। इसके अलावा 3 साल से एक स्थान पर पदस्थ अधिकारियों को हटाने की कार्रवाई भी पूरी की जा चुकी है। निर्वाचन आयोग द्वारा मतदान केंद्रों का सर्वे करवाया जा रहा है।

इस मामले में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों का कहना है कि प्रदेश में उपचुनाव (MP By-election) प्रारंभिक तैयारियां पूरी की जा चुकी है। मध्यप्रदेश में जैसे ही उपचुनाव के निर्देश मिलेंगे। किसी तरह की कठिनाई का सामना नहीं करना पड़ेगा। वहीं अधिकारियों ने बताया कि मतदान 1 जनवरी 2021 की स्थिति वाले मतदाता सूची (voter list) के आधार पर करवाए जाएंगे। वहीं इन क्षेत्रों के लिए 3 हजार मतदान केंद्र सहित 9600 ईवीएम मशीन की तैयारी की गई है।

read More: बोले जयवर्धन- Scindia को सड़क पर उतरना था, BJP ने हवाई जहाज दे दिया..उपचुनाव पर ये खुलासा

बता दें कि मध्य प्रदेश के खंडवा लोकसभा सीट, जहां भाजपा सांसद नंदकुमार चौहान के निधन के बाद से रिक्त है। वही पृथ्वीपुर कांग्रेस विधायक बृजेंद्र सिंह राठौर, जोबट में कलावती भूरिया और गांव में भाजपा विधायक जुगल किशोर बागरी के निधन से खाली पड़े सीटों पर उपचुनाव होने हैं।

मध्य प्रदेश एक खंडवा लोकसभा सीट (Khandwa By-election) और तीन रैगांव, जोबट और पृथ्वीपुर में विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होना हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण खंडवा लोकसभा सीट मानी जा रही है, जिस पर बीजेपी की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है, वही तीन विधानसभा सीटों पर कांग्रेस की साख दांव पर है। साथ ही केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 18 सितंबर को प्रदेश के दौरे पर आने वाले है। 18 सितंबर को शाह जबलपुर पहुंचेंगे। वहीं आदिवासियों के बीच जाने महाभियान और कार्यक्रमों की शुरुआत होगी।