MP News: बोलें प्रभुराम – MP में ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई कोई मौत

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। बीते दिनों देशभर में तब हंगामा मच गया, जब राज्यसभा में मोदी सरकार ने कहा कि कोरोना के दौरान किसी भी पीड़ित की मौत ऑक्सीजन (oxygen) की कमी से नहीं हुई है। हालांकि अब मोदी सरकार (modi government) द्वारा दिए गए इस बयान को राज्य सरकारें भी सही बता रही है। इस मामले में अब मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभु राम चौधरी (prabhuram chaudhary) का बड़ा बयान सामने आया है।

दरअसल स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी ने कहा कि यह बात सही है कि मध्य प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई है। मौत का कारण निश्चित दूसरा रहा है। Corona काल के दौरान मध्य प्रदेश सरकार द्वारा ऑक्सीजन की कमी की पूर्ति करने के लिए हर संभव प्रयास किए गए। लगातार ट्रेन और टैंकरों से ऑक्सीजन की सप्लाई (oxygen supply)  को बढ़ाया गया। ताकि किसी भी मरीज की मौत ऑक्सीजन की कमी से ना हो।

Read More: आगामी उपचुनाव के लिए एक्शन में कांग्रेस, इन विधायकों को मिली बड़ी जिम्मेदारी

इस मामले में सिर्फ BJP ही नहीं बल्कि कांग्रेस शासित छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री ने भी कहा कि ऑक्सीजन की कमी से किसी भी मरीज की मौत नहीं हुई और इस मौत पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। वहीं कांग्रेस द्वारा लगातार केंद्र सरकार को करुणा महत्व दिए जाने के बाद प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी कहा कि ऑक्सीजन की कमी को लेकर आए दिन समीक्षा बैठक होती है वही राज्य जो सूचना देता है। उसी आधार पर केंद्र जवाब देती है।

हालांकि Corona की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी के बीच ऑक्सीजन के लिए भटकते कई लोगों की फोटो वायरल हुई थी। सरकार खुद मान रही है कि ऑक्सीजन की कमी को पूरा करने के लिए कई तरह के प्रयास किए गए थे। वहीं मध्यप्रदेश में कई अस्पतालों में ऑक्सीजन के प्लांट स्थापित किए जा रहे हैं। संभावित तीसरी लहर को देखते हुए प्रदेश सरकार ने 34 से अधिक ऑक्सीजन प्लांट स्थापित करने की कार्यशैली को शुरू कर दिया है और 30 सितंबर तक काम पूरा होने के आसार जताए गए हैं।

बता दें कि बीते दिनों राज्यसभा में राज्य स्वास्थ्य मंत्री ने एक बयान देकर देशभर में हलचल मचा दी थी। जिसमें कहा गया था कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से एक भी पीड़ित की मौत नहीं हुई है। हालांकि इस मामले में कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टी द्वारा सरकार को घेरे जाने की कवायद जारी है।