दिल्ली में MP BJP कोर ग्रुप की बैठक आज, कई बड़े फैसले की तैयारी, कैबिनेट में फेरबदल-विस्तार पर चर्चा तेज

साथ ही नॉन परफॉर्मिंग मंत्रियों (non performing ministers) की छुट्टी भी की जा सकती है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (MP) में कैबिनेट में उलटफेर और विस्तार की चर्चा एक बार फिर से तेज हो गई है। दरअसल गुरुवार को राजधानी दिल्ली में प्रदेश बीजेपी कोर ग्रुप (MP BJP Core Group) की बड़ी बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में कई बड़े फैसले लिए जा सकते हैं। चर्चाओं की माने तो जोबट से विधायक सुलोचना रावत (sulochna rawat) को भी मंत्री पद दिया जा सकता है।

दरअसल गुरुवार को प्रदेश बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक आयोजित की जाएगी। जिसमें कई बड़े फैसले लेने की तैयारी की जा रही है। बीजेपी कोर ग्रुप की बैठक इसलिए भी अहम मानी जा रही है क्योंकि 22 अप्रैल को अमित शाह Bhopal प्रवास पर आए थे। इस दौरान उन्होंने बड़े नेताओं और मंत्रियों की बैठक ली थी। माना जा रहा है कि प्रदेश संगठन की होने वाली इस बैठक में बड़े पदाधिकारी भी शामिल होंगे। साथ ही नॉन परफॉर्मिंग मंत्रियों (non performing ministers) की छुट्टी भी की जा सकती है।

Read More : MP : विभाग के बड़ी तैयारी, लाखों किसानों को मिलेगा लाभ, कृषि मंत्री कमल पटेल ने कई बड़ी बात

सूत्रों की माने तो अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बड़े फैसले लिए जा सकते हैं। सरकार और संगठन सहित प्रदेश पदाधिकारियों की परफॉर्मेंस पर भी मंथन किया जाएगा। साथ ही वैसे मंत्री जो नॉन परफॉर्मिंग साबित हो रहे हैं। उनकी छुट्टी पर भी फैसला लिया जा सकता है। चर्चाओं की माने तो गौरीशंकर बिसेन को एक बार फिर से मंत्री बनाए जाने पर भी चर्चा तेज है। माना जा रहा है कि ओबीसी कल्याण आयोग के अध्यक्ष विषय को मंत्री पद दिया जा सकता है। सुलोचना रावत को आदिवासी समुदाय के नेतृत्व का कार्यभार सौंपा जा सकता है।

बता दे कि कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुई थी। तब से उन्हें मंत्री बनाए जाने का आश्वासन दिया है। नई दिल्ली में होने वाली उसको ग्रुप की बैठक में राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अलावा राष्ट्रीय संगठन महामंत्री बीएल संतोष मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री सीएम शिवराज, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन के महामंत्री हितेश शर्मा भी मौजूद रहेंगे। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया बैठक में शामिल होंगे।

वही कैबिनेट में 4 पद रिक्त हैं। जिनमें से 2 विभाग महिला एवं बाल विकास विभाग और पीएसी मुख्यमंत्री के पास है। इनमें से कुछ के मंत्री बनने की संभावना देखने को मिल रही है। राजनीतिक सूत्रों की माने कुछ को मंत्री प्रभार सौंपा जा सकता है।