MP में सुशासन : Good Governance Index 2021-22 ग्रुप B में हासिल किया शीर्ष स्थान

हालांकि मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान 4884 अंक के साथ दूसरे पर काबिज है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देशभर में मध्यप्रदेश (MP) ने एक बार फिर से बाजी मारी है। दरअसल पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई (Atal Bihari Vajpayee) के जन्मदिन पर आयोजित होने वाले सुशासन दिवस (Good Governance Day) पर देश के गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने गुड गवर्नेंस इंडेक्स (Good Governance Index) जारी किया है। इंडेक्स के मुताबिक ग्रुप B के राज्यों में मध्यप्रदेश ने शीर्ष स्थान हासिल किया है।

मध्य प्रदेश को 4887 अंक मिले हैं। हालांकि मध्य प्रदेश के बाद राजस्थान 4884 अंक के साथ दूसरे पर काबिज है। जबकि छत्तीसगढ़ तीसरे स्थान पर 4862 नंबर के साथ बना हुआ है। इन तीनों राज्यों के अलावा ग्रुप B में झारखंड, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल को भी शामिल किया गया था।

वहीं केंद्र सरकार द्वारा शनिवार को जारी हुए सुशासन सूचकांक 2020-21 में गुजरात, Goa और महाराष्ट्र को Top 3 राज्यों के रूप में शामिल किया गया है। वहीं केंद्र शासित राज्य में दिल्ली में सुशासन की छवि में सुधार हुआ है। बता दे कि गुजरात में गुड गवर्नेंस इंडेक्स के तहत 12% की वृद्धि दर्ज की गई है। हालांकि उत्तर प्रदेश में गुड गवर्नेंस के मामले में 9% की वृद्धि रिकॉर्ड की गई है इसके अलावा वाणिज्य और उद्योग क्षेत्र में भी उत्तर प्रदेश में शीर्ष स्थान हासिल किया है।

Read More : महिला अपराधों की रोकथाम के लिए MP में बड़ी तैयारी, PHQ ने जारी किए निर्देश

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि आज 2 ऐसी विभूतियों की जयंती है जिन्होंने देश को एक नई दिशा दिखाने हेतु अपना पूरा जीवन लगा दिया। पं. मदन मोहन मालवीय जी ने भारतीय परंपरा के अनुसार नई व आधुनिक शिक्षा पद्धति कैसी हो इसका व अटल जी ने आधुनिक भारत में सुशासन को जमीन पर उतारने का आदर्श स्थापित किया।

सुशासन हेतु विकास का मॉडल सर्वस्पर्शी-सर्वसमावेशी व पारदर्शी होना चाहिए। पीएम मोदी ने पहले की सरकारों के समय विकास की व्याख्या के जो द्वंद थे उन्हें समाप्त कर सभी क्षेत्रों का सर्वस्पर्शी व सर्वसमावेशी विकास कर लोगों की अपेक्षाओं को पूरा किया है।

अमित शाह ने कहा कि सरकारें नीतिया-कानून बनाती है लेकिन उनका अनुपालन प्रशासनिक अमले को करना है…इसलिए मेरा सभी से आग्रह है कि नीतियों व नियमों के उद्देश्यों को समझकर हम जनता के हित में क्या और बेहतर कर सकते हैं इसका प्रयास करना चाहिए।

अमित शाह ने कहा कि लोकतंत्र के सुफल लोगों तक तभी पहुंचते हैं जब हम स्वराज को सुराज/सुशासन में परिवर्तित करतें हैं। पीएम मोदी ने लोगों की स्वराज को सुराज में बदलने की अपेक्षा को जमीन पर उतारने का अभिनव काम किया है जिससे देश की जनता का लोकतंत्र में विश्वास और बढ़ा है।