नए वेरिएंट ओमाइक्रोन के बढ़ते केस ने बढ़ाई चिंता, लॉकडाउन जैसे प्रतिबंध, PM Modi आज लेंगे बड़ी बैठक

मुमकिन है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Corona के बढ़ते केस और नए वेरिएंट पर कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं।

पीएम मोदी

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) देश में मौजूदा कोरोना (corona) स्थिति की समीक्षा के लिए गुरुवार को एक बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इसके नए वेरिएंट ओमाइक्रोन (new varient omicron) के मामले बढ़ रहे हैं।दरअसल देश में कोरोना के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन के बढ़ते मामले केंद्र सरकार के लिए चिंता का विषय बन गए हैं। WHO की चेतावनी के बाद केंद्र सरकार ने कई राज्यों को लॉकडाउन (lockdown) जैसे प्रतिबंध लगाने के निर्देश दिए हैं। केंद्र सरकार का कहना है कि जिन जगहों पर पॉजिटिविटी रेट (positivity rate) 10% से अधिक अस्पतालों में मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

ऐसी जगह पर नाइट कर्फ्यू (night curfew) लगाया जाए। साथ ही बड़े आयोजनों पर प्रतिबंध लगाया जाए। वहीं कई राज्य सरकारों ने लॉकडाउन (lockdown) जैसे प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं। इसी बीच एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज कोरोना स्थिति की समीक्षा करेंगे। मुमकिन है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी Corona के बढ़ते केस और नए वेरिएंट पर कोई बड़ा निर्णय ले सकते हैं।

भारत ने अब तक ओमाइक्रोन वेरिएंट के 200 से अधिक मामले दर्ज किए हैं। जिसमें राष्ट्रीय राजधानी सबसे आगे है। बुधवार तक Delhi में 57 मामले सामने आए हैं। इसके बाद महाराष्ट्र (54), तेलंगाना (24), कर्नाटक (19), राजस्थान (18), केरल (15) और गुजरात (14) का स्थान है। जम्मू और कश्मीर में तीन ओमाइक्रोन मामले सामने आए हैं, जबकि ओडिशा, आंध्र प्रदेश और उत्तर प्रदेश में दो-दो मामले हैं।

Read More : MP School : 1 से 8वीं तक के छात्रों के लिए बड़ी खबर, अब नए साल में खुलेंगे स्कूल, आदेश जारी

इस बीच, देश में कुल कोरोना केसों की संख्या 34,758,481 है। जिसमें 478,325 मौतें शामिल हैं। देश में Active case वर्तमान में 78,190 है, जो 575 दिनों में सबसे कम है। जबकि कुछ राज्यों में मामलों में वृद्धि देखी जा रही है। राष्ट्रव्यापी दैनिक केस 8,000 से नीचे है।

मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन के बारे में सचेत किया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा ‘चिंता के प्रकार’ के रूप में वर्णित किया है, यह अब तक किए गए वैज्ञानिक शोध के अनुसार, डेल्टा संस्करण की तुलना में तीन गुना अधिक संचरण योग्य है।

एडवाइजरी में, केंद्र ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को कोरोना संक्रमण के रुझानों की जांच करने और रात के लॉकडाउन जैसे कदमों पर विचार करने के लिए भी कहा। केंद्र ने बड़े समारोहों पर प्रतिबंध लगाने का भी सुझाव दिया है, यदि एक सप्ताह में सभी जाँच में से 10% से अधिक पाजिटिविटी हो जाते हैं या यदि अस्पताल के बिस्तरों की क्षमता 40% से अधिक हो जाती है। ऐसी जगह पर स्थानीय और जिला स्तर पर अधिक दूरदर्शिता, डेटा विश्लेषण, गतिशील निर्णय लेने और सख्त और त्वरित नियंत्रण कार्रवाई की आवश्यकता है।