SAHARA के मैनेजर की हत्या के बाद फैली सनसनी, ब्रांच में अटका है निवेशकों का करोड़ों का निवेश

रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने कहा कि यह हत्या का मामला है और मकसद का पता लगाने के लिए हर संभव कोण से जांच की जा रही है।

sahara

रांची, डेस्क रिपोर्ट। झारखंड (jharkhand) में एक 60 वर्षीय सहारा इंडिया (SAHARA India) के मैनजर (manager) की शनिवार को रामगढ़ जिले में उनके आवास पर हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने कहा कि नेता की पत्नी गंभीर रूप से घायल पाई गई। वहीं पुलिस ने कमलेश शर्मा (kamlesh narayan sharma) के शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम (postmortem) के लिए भेज दिया है।

प्रारंभिक जांच में पता चला है कि शुक्रवार की रात अज्ञात लोग सहारा इंडिया के मैनजर और कांग्रेस के पूर्व जिला महासचिव कमलेश नारायण शर्मा के भुरकुंडा पुलिस चौकी क्षेत्र के सेंट्रल सौंडा कॉलोनी स्थित आवास में खिड़की से घुसे और लोहे की रॉड से वार कर नारायण शर्मा की हत्या कर दी जबकि उनकी पत्नी चंचला शर्मा भी गंभीर रूप से घायल हो गईं।

उन्होंने कहा कि 55 वर्षीय महिला को रांची के राजेंद्र आयुर्विज्ञान संस्थान (RIMS) ले जाया गया, जहां उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है। रामगढ़ के पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने कहा कि यह हत्या का मामला है और मकसद का पता लगाने के लिए हर संभव कोण से जांच की जा रही है।

Read More: सरकार का फैसला, नए साल में कर्मचारियों को मिलेगी सौगात, बढ़ेगा 1,620 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च

कांग्रेस विधायक अंबा प्रसाद ने घटनास्थल का दौरा किया और कहा कि वह मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से बात करेंगी और हत्या की सीआईडी ​​जांच की मांग करेंगी। उन्होंने संवाददाताओं से कहा मैं नृशंस हत्या की निंदा करती हूं और मांग करती हूं कि दोषियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार किया जाए और कड़ी सजा दी जाए।

बता दे कि देश भर में निवेशकों द्वारा में मैच्युरिटी के बाद ही भुगतान नहीं मिलने पर सहारा इंडिया के खिलाफ आक्रोश दिखाई दे रहा है। वहीं बीते दिनों रांची सहित प्रदेश के अन्य हिस्सों में भी सहारा इंडिया ब्रांच में निवेशकों द्वारा हंगामा किया गया था। जिसके बाद सहारा इंडिया मैनेजर के ऊपर भी निवेशकों के भुगतान का दबाव बना हुआ है।

ऐसी स्थिति में एक तरफ जहां लूट की आशंका पर पुलिस छानबीन कर रही है वहीं दूसरी तरफ कहीं ना कहीं पुलिस के तार निवेशिकों के भुगतान से भी जुड़े हुए हैं। वहीं स्थानीय लोगों द्वारा निवेशकों के लगातार हंगामे और दबाव को भी इस घटना को जोड़कर देखा जा रहा है।