भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में कोरोना (corona) संक्रमण काल के बीच शिवराज सरकार ने (shivraj government) ने किसानों को बड़ी राहत दी है। जहां मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार सभी जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए गए हैं। दरअसल जिले में समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी जारी रहेगी। इसके लिए प्रमुख सचिव खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता संरक्षण फैज अहमद किदवई (Faiz Ahmed Kidwai) ने सभी जिला कलेक्टर, जिला आपूर्ति अधिकारी और जिला प्रबंधक केंद्रीय सहकारी बैंक को निर्देश दिए हैं।

फैज अहमद किदवई ने जिला कलेक्टर को निर्देश देते हुए कहा है कि किसानों से खरीदी किसी भी स्थिति में बंद ना किया जाए। केवल वर्षा के कारण उपार्जन को अस्थाई रूप से स्थगित किया गया है। इतना ही नहीं प्रमुख सचिव ने कहा कि जो किसान छूट गए हैं।  उन्हें 17 से 19 मई तक s.m.s. जारी किए जाएंगे। जिसके बाद पुनः खरीदी के लिए s.m.s. जारी कर उपार्जन की कार्रवाई की जाएगी। फैज अहमद किदवई ने कहा कि किसानों को किसी भी तरह की संशय की स्थिति ना रहे इसलिए इस बात का प्रचार प्रसार किया जाए।

Read More: पॉजिटिविटी रेट में गिरावट, 24 घंटे में मिले 5412 पॉजिटिव, कोरोना कर्फ्यू से मिल सकती है राहत!

प्रमुख सचिव खाद्य फैज अहमद किदवई ने कहा कि इंदौर और उज्जैन संभाग में उपार्जन समाप्त हो चुका है जबकि अन्य संभाग में उपार्जन के संबंध में खरीदी के निर्देश दिए गए हैं सभी जिला कलेक्टरों को यह सूचित किया गया है कि असामयिक वर्षा में समर्थन मूल्य पर उपार्जित गेहूं के बचाव की कार्रवाई की जाए।

वही वर्षा ना होने की स्थिति में और प्री मानसून से पहले प्रदेशभर में उपार्जन की कार्रवाई जारी रहेगी और सभी किसानों से समर्थन मूल्य पर खरीदी की जाएगी। बता दे कि मध्यप्रदेश में तूफान ताऊ ते का असर देखने को मिल रहा है। जहां लगातार भारी गरज चमक के साथ वर्षा से उपार्जन कार्य प्रभावित हुए हैं। वहीं प्रदेश के अधिकांश जिले में 20 मई से 27 मई तक मौसम विभाग ने मौसम खुले रहने का अनुमान जताया है। जिसके बाद जून महीने में फिर से प्री मानसून में बारिश के अनुमान दिए गए हैं। इससे पहले सरकार द्वारा उपार्जन कार्य को पूरा किया जाना निश्चित किया गया है।