शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान- समर्थन मूल्य बढ़ाने से होगा किसानों को लाभ

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने केन्द्र सरकार द्वारा फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ाने से किसानों (Farmers) को लाभ होगा और उन्हें अपने पसीने की सही कीमत मिलेगी।

शिवराज सिंह चौहान

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने केन्द्र सरकार (central government) द्वारा कैबिनेट बैठक (Cabinet Meeting) में खरीफ फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (Minimum Support Price) बढ़ाए जाने के निर्णय का स्वागत करते हुए प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) का आभार व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी किसान हितैषी हैं और एक के बाद एक फैसले किसानों के हित में ले रहे हैं।

यह भी पढ़े.. Cabinet Meeting: मोदी सरकार की किसानों को सौगात, खरीफ फसलों पर MSP बढ़ाई

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) ने केन्द्र सरकार द्वारा फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ाने से किसानों (Farmers) को लाभ होगा और उन्हें अपने पसीने की सही कीमत मिलेगी। इससे फसलों के विविधीकरण को बढ़ावा मिलेगा और दलहन एवं तिलहन का उत्पादन भी बढ़ेगा। वर्तमान में हमें दलहन का आयात करना पड़ता है। केन्द्र द्वारा खरीफ फसलों के समर्थन मूल्य में 62 प्रतिशत तक की की गई वृद्धि सराहनीय है।

शिवराज सिंह चौहान के साथ ही कृषि मंत्री कमल पटेल (Agriculture Minister Kamal Patel) ने कहा कि किसान हितैषी मोदी सरकार ने कैबिनेट की बैठक में खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 की खरीफ फसलों पर 50 से लेकर 85% तक न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने का फैसला लेकर किसानों को बहुत बड़ी सौगात दी है।खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ाने के लिए आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडल समिति ने मंजूरी प्रदान कर दी है।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के 8 संभागों में बारिश के आसार, एक हफ्ते बाद मानसून देगा दस्तक

कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि कैबिनेट की बैठक में कपास, रामतिल, तिल, सोयाबीन, सूरजमुखी, मूंगफली, मूंग, रागी, ज्वार और सामान्य धान पर न्यूनतम समर्थन मूल्य में 50% की बढ़ोतरी की गई है। इसी प्रकार ज्वार (मालदंडी) पर 51%, धान (ग्रेड ए) पर 52% , तुअर पर 62% और बाजरा पर न्यूनतम समर्थन मूल्य में 85% तक की वृद्धि की गई है।तुअर और उड़द के समर्थन मूल्य में 300-300 रूपए की बढ़ोत्तरी की गई है। मूंगफली के समर्थन मूल्य पर 275 रुपए, तिल पर 452 रुपए, बाजरा पर 100 रुपए, कपास पर 211 रूपए समर्थन मूल्य बढ़ाने का फैसला लिया गया है।

कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा कि खरीफ विपणन वर्ष 2021-22 में मूंग का अब 7196 के स्थान पर 7275 रुपए में उपार्जन किया जाएगा। इसी प्रकार उड़द और तुअर 6000 रुपए के स्थान पर 6300 रुपए में खरीदी जाएगी। मूंगफली तो 5275 रुपए के स्थान पर 5550 रूपए में खरीदी जाएगी। केन्द्र सरकार द्वारा किसानों के हित में लिए गए इस फैसले पर मंत्री श्री पटेल ने प्रदेश के किसानों को बधाई भी दी है।

यह भी पढ़े.. VIDEO: वीडी शर्मा के घर पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया, लंच से पहले दिया बड़ा बयान

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता वाली आर्थिक मामलों की मंत्रि-मंडलीय समिति (CCEA) ने आज कृषि(Agriculture) उपज की सरकारी खरीद, सीजन 2021-22 के लिए सभी खरीफ फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) में बढ़ोत्तरी को स्वीकृति दे दी। बीते साल की तुलना में सबसे ज्यादा तिल यानी सेसामम (452 रूपये प्रति क्विंटल) और उसके बाद तुअर व उड़द (300 रूपये प्रति क्विंटल) के MSP में बढ़ोत्तरी की सिफारिश की गई। मूंगफली और नाइजरसीड के मामले में, बीते साल की तुलना में क्रमश: 275 रूपये और 235 रूपये प्रति क्विंटल की बढ़ोत्तरी की गई है।

शिवराज सिंह चौहान