कमलनाथ को क्यों अच्छे लग रहे हैं Modi! नरोत्तम ने दिया यह जवाब

कमलनाथ के इस बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा है "कमलनाथ जी, आप क्लीन शेव ही रहो और हमें यानी बीजेपी को क्लीन स्वीप करने दो।"

इन्दौर, आकाश धोलपुरे। Congress के प्रदेश अध्यक्ष Kamalnath को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अच्छे लग रहे हैं। कारण है मोदी का बदला हुआ गेटअप जिसमें उन्होंने दाढ़ी बना ली है। हालांकि कमलनाथ को इसका उत्तर चुटीले अंदाज में प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) ने दिया है। राज्यपाल मंगू भाई छगनभाई पटेल (Governor Mangubhai Chhaganbhai Patel) से सौजन्य मुलाकात करने शुक्रवार को प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ राजभवन पहुंचे। वहां उन्होंने राज्यपाल से मुलाकात कर प्रदेश सरकार द्वारा अन्य पिछड़ा वर्ग (over backward class) के Reservation के मामले में कोर्ट में बरती जा रही लेटलतीफी की बात की।

इसके साथ ही उन्होंने राज्यपाल का ध्यान प्रदेश में अनुसूचित जनजाति के लोगों पर बढ़ते हुए अत्याचारों की ओर भी दिलाया। पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने प्रदेश सरकार के ऊपर लोगों के साथ वादाखिलाफी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि छात्र परेशान हैं, बेरोजगार परेशान हैं और किसान भी परेशान हैं। प्रदेश सरकार की असलियत सबके सामने आ चुकी है। कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा।

Read More: Scindia ने किया पदभार ग्रहण, कमलनाथ का आशीर्वाद – सदा खुश रहें ज्योतिरादित्य

उन्होंने कहा कि 2014 में सत्ता में आने के पहले नरेंद्र मोदी बड़े लंबे लंबे भाषण देते थे। पत्रकारों से कमलनाथ ने कहा कि “2013-14 के नरेंद्र मोदी के भाषणो मे डिजिटल इंडिया, स्टैंड अप इंडिया जैसे स्लोगन उठाकर देख लीजिए। यह सब कहां चले गए ।लेकिन अब नरेंद्र मोदी अच्छे लग रहे हैं, दाढ़ी बना ली है।” कमलनाथ के इस बयान पर पलटवार करते हुए प्रदेश के गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने कहा है “कमलनाथ जी, आप क्लीन शेव ही रहो और हमें यानी बीजेपी को क्लीन स्वीप करने दो।”

उन्होंने कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि 15 महीने की कमलनाथ सरकार ने वल्लभ भवन में जिस तरह से ट्रांसफर पोस्टिंग का उद्योग चलाया और किसान, मजदूर व बेरोजगार नौजवानों के साथ जिस तरह की वादाखिलाफी की, उसके चलते अब कांग्रेस मध्यप्रदेश में अपना अस्तित्व खो बैठी है और कमलनाथ जैसे नेताओं के पास भी अब सिर्फ बयानों के अलावा कुछ नहीं।