फिर सामने आई चिरायु अस्पताल की मनमानी, बीजेपी नेता ने सीएम शिवराज से मांगी मदद

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आयुष्मान योजना (ayushman yojana) के अंतर्गत इलाज करने से इनकार करने वाले भोपाल के चिरायु अस्पताल (chirayu hospital) की मनमानी जारी है। इस बार तो आरएसएस के पूर्व नेता को अपने परिचितों का आयुष्मान कार्ड से इलाज कराने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लेना पड़ा जहां उन्होने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (cm shivraj singh chouhan) से सहायता मांगी।

कांग्रेस जिलाध्यक्ष अजयसिंह रघुवंशी की शिवराज से मांग, कहा खाद के बढ़े दाम तत्काल वापस ले सरकार

चेतन भार्गव (chetan bhargava) आरएसएस के प्रांत शारीरिक प्रमुख और विभाग प्रमुख रह चुके हैं। फिलहाल वो बीजेपी में हैं। मंगलवार दोपहर को उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ट्वीट कर कहा कि सागर के विट्ठल दांगी और प्रीति ठाकुर दोपहर 12 बजे से चिरायु अस्पताल के बाहर खड़े हैं लेकिन अस्पताल प्रबंधन आयुष्मान कार्ड से के माध्यम से इलाज करने से मना कर रहा है। ये कोई पहला मामला नहीं है जब चिरायु अस्पताल प्रबंधन ने इस तरह की हरकत की हो। इससे पहले भी मरीज के परिजनों से सिर्फ इसलिए बदसलूकी की गई क्योंकि उन्होंने ‘आयुष्मान कार्ड’ के जरिए इलाज करवाने की बात कही, जिस पर अस्पताल का मैनेजर गौरव बजाज बेखौफ होकर इलाज करने के लिए साफ मना करते नजर आए। मैनेजर ने यह तक कह डाला कि यहां सरकार का कोई आदेश नहीं चलेगा। वहीं सोमवार को भी सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें विदिशा निवासी योगेंद्र रघुवंशी ने आरोप लगाया है कि विगत शुक्रवार को वह अपनी 70 वर्षीय दादी सरजू बाई रघुवंशी को भर्ती कराने चिरायु अस्‍पताल लेकर आया था, लेकिन अस्पताल ने आयुष्‍मान कार्ड से उनका इलाज करने से साफ इंकार कर दिया। वहीं विदिशा निवासी योगेंद्र रघुवंशी के मामले में खुद ज्योतिरादित्य सिंधिया को दखल देना पड़ा था। इन मामलों को देखते हुए सवाल उठता है कि आखिर क्यों चिरायु अस्पतला इस तरह की मनमानी पर उतर आया है, अगर भारत सरकार की महत्वकांक्षी योजना आयुष्मान कार्ड से गरीबों का इलाज नहीं होगा तो फिर इस योजना का लाभ क्या है।