बैतूल के हजारों किसानों की उड़ी नींद, ब्याज के साथ कर्ज चुकाने का नोटिस जारी

प्रदेश के बैतूल जिले के हजारों किसानों को कर्ज चुकाने का नोटिस भेजा गया है। ये वहीं किसान है जिन्हें पूर्व की कमलनाथ सरकार द्वारा कर्ज माफी योजना में शामिल किया गया था।

कृषि मंत्री

बैतूल,डेस्क रिपोर्ट। साल 2018 में मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव (Assembly elections) में किसान कर्ज माफी (Farmers Loan waiver) पूर्व की कमलनाथ सरकार (Kamalnath Government) के लिए हुकुम का इक्का साबित हुआ था। कर्ज माफी कमलनाथ  के काफी हद तक कारगर साबित हुआ था, जिसने उनके हाथों में सत्ता की डोर थमाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उस वक्त जिन किसानों को कर्ज माफी का लाभ मिला था, उसमें बैतूल जिले के किसानों के लिए कर्ज माफी ने अभी के समय में उनके माथे पर चिंता की लकीरें खींच दी है।

ब्याज समेत चुकाना होगा कर्ज

दरअसल कर्ज माफी (loan Waiver) ने प्रदेश के बैतूल (Betul) जिले के किसानों (Farmers) की रातों की नींद उड़ा दी है। बैतूल जिले के हजारों किसानों को सहकारी समितियों द्वारा एक नोटिस (Notice) भेजा गया है, जिसमें उनसे लिया गया कर्ज ब्याज (Interest) समेत चुकाने के लिए कहा गया है। यह नोटिस उन किसानों को भेजा गया है जिन्हें पूर्व की कमलनाथ सरकार द्वारा कर्ज माफी योजना में शामिल किया गया था।

ये भी पढ़े- MP News : 7 लाख किसानों के खातों में नहीं पहुंचा किसान सम्मान निधि का पैसा, जाने वजह

किसानों को थमाया गया नोटिस

बताया जा रहा है कि प्रशासन द्वारा बैतूल के 30 हजार 588 किसानों को कर्ज चुकाने का आदेश जारी किया गया है। इन किसानों द्वारा 50 हजार से लेकर 2 लाख तक का कर्ज लिया गया था। 30 हजार 588 किसानों द्वारा लिए गए कर्ज की कुल राशि 188 लाख है। सहकारी समितियों द्वारा इन किसानों को डिफॉल्टर घोषित करने के बाद इन्हें नोटिस थमा दिए गए हैं।

किसानों की बीच मचा हड़कंप

बता दें कि कमलनाथ सरकार की कर्ज माफी योजना में बैतूल जिले के 96 हजार से ज्यादा किसान शामिल हुए थे। जिन किसानों को कर्ज माफी योजना में शामिल किया गया था अब उन किसानों को कर्ज चुकाने का नोटिस मिलने से उनके बीच में हड़कंप मच गया है। गौरतलब है कि इन किसानों को सहकारी समितियों द्वारा खाद बीज देने से भी इनकार कर दिया गया है।

ये भी पढ़े- World Cancer Day : जाने पहली बार कब मनाया गया था कैंसर दिवस और कैसे करें इससे बचाव

नहीं पहुंचा किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि का पैसा

वहीं बीते दिन 7 लाख किसानों के खाते में किसान सम्मान निधि का पैसा नहीं पहुंच सका था। इसके पीछे का कारण बताया जा रहा है कि ट्रांजैक्शन फेल होने के चलते पैसा नहीं पहुंचा था। ट्रांजैक्शन फेल होने के पीछे का कारण यह बताया जा रहा है कि पटवारी द्वारा या तो खाता नंबर लिखने में गलती हुई है या फिर आधार कार्ड में आई तकनीकी दिक्कत के चलते पैसा किसानों के खाते में नहीं पहुंच पाया। किसान सम्मान निधि का पैसा खाते में नहीं पहुंचने के चलते किसान परेशान हो रहे हैं।