भोपाल : एम्स मल्टीकेयर अस्पताल में तब्दील, प्रशासनिक अकादमी में बन रहा कोविड केयर सेंटर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में लगातार ऑक्सीजन (Oxygen) और रेमडेसिवीर इंजेक्शन (Remdesivir) की कमी की खबरों के बीच सीएम शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhan) ने कहा है कि केंद्र के सहयोग से मध्यप्रदेश को 450 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मिल गई है। इसमें गुजरात आईनेक्स से 120 मीट्रिक टन सहित भिलाई व राउरकेला व अन्य स्थानों से 450 मीट्रिक टन ऑक्सीजन दी जाने की सहमति हुई है। इसी के साथ अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जा रही है और भोपाल एम्स (AIIMS) अब मल्टीकेयल अस्पताल में तब्दील होगा।

ये भी देखिये – 18 अप्रैल को आयोजित होने वाली नीट पीजी परीक्षा स्थगित, डॉ हर्षवर्धन ने किया ट्वीट

सीएम ने कहा कि ऑक्सीजन के परिवहन के लिए सरकार अब युद्धस्तर पर टैंकरों की व्यवस्था कर रही है। प्रदेश में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता बनी रहे, इसके लिए सीएम ने कहा कि वे लगातार भारत सरकार के संपर्क में हैं। वहीं रेमडेसिवीर इंजेक्शन सप्लाई के लिए भी लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। सीएम ने कहा कि बुधवार को 10 हजार इंजेक्शन मंगवाए गए हैं जो अलग अलग स्थानों पर भिजवाए गए हैं। वहीं प्रायवेट अस्पताल अपने स्त्रोत से इंजेक्शन मंगवाएं ये भी कहा गया है। इसी के साथ जल्द ही 50 हजार रेमडेसिवीर इंजेक्शन की सप्लाई के लिए कोशिश की जा रही है।

सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जा रही है। वहीं भोपाल एम्स को अब मल्टी केयर अस्पताल के रूप में तब्दील किया जा रहा है। एम्स में कोविड पेशेंट के लिए पर्याप्त बिस्तर उपलब्ध रहेंगे। पहले से जो बिस्तर अन्य बीमारी के मरीजों द्वारा भरे हैं उनके अलावा अब खाली बिस्तर कोविड पेशेंट के लिए निर्धारित होंगे। वहीं भोपाल के प्रशासनिक अकादमी में नर्मदा अस्पताल के सहयोग के 150 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर तैयार किया जा रहा है। भोपाल के रेडक्रास को भी कोविड केयर बनाया जा रहा है वहीं इंदौर में राधास्वामी सत्संग न्यास के सहयोग से 500 बिस्तर का कोविड केयर सेंटर तैयार किया जा रहा है जो तीन दिन में तैयार हो जाएगा। इसी तरह जबलपुर, ग्वालियर सहित अन्य स्थानों पर भी निजी सेक्टर के सहयोग से निजी अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या बढ़ाई जा रही है। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एक बार फिर जनता से अपील की है कि संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए कोरोना कर्फ्यू लगाया गया है और इसका सख्ती से पालन किया जाए।