बीजेपी विधायक

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। राजस्थान भ्रष्टाचार-रोधी ब्यूरो (Rajasthan Anti-Corruption Bureau) द्वारा आईआरएस अधिकारी (IRS Officer) शशांक यादव को 16 लाख रुपये के साथ गिरफ्तार करने के बाद मंदसौर से बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने CBI जांच की मांग की है। इसके लिए उन्होंने केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को एक पत्र लिखा है और उसमें पकड़े गए अधिकारी पर मादक पदार्थ अधिनियम NDPS के तहत भी मामला दर्ज किए जाने की मांग की है। इसके साथ ही इस पत्र की कॉपी मंदसौर -चित्तौड़गढ़ झालावाड़ सांसद को भी भेजी गई है।

यह भी पढ़े.. MP School Reopen: स्कूल खोलने को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह का बड़ा बयान

मंदसौर बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया (Mandsaur BJP MLA Yashpal Singh Sisodia ने पत्र में लिखा है कि एंटी करप्शन ब्यूरो ने मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की नीमच और उत्तर प्रदेश (UP) की गाजीपुर अफीम अल्कलॉइड फैक्ट्री के जीएम शशांक यादव को शनिवार सुबह पकड़ा है। ACB को प्राथमिक जांच में पता चला है कि अफीम की गुणवत्ता टेस्टिंग में मार्फिन की जायदा मात्रा प्रमाणित किए जाने के एवज में शंशाक यादव और उनके लोगों द्वारा 40,000 किसानों से 3.2 अरब रुपये वसूले जाने थे, जबकि 6 हजार किसानों से 35 करोड़ रूपये वसूले जा चुके थे.

बीजेपी विधायक ने वित्त मंत्री से 3 मांग करते हुए लिखा है कि मामले की सीबीआई से जांच कराई जाए, दूसरी मांग जब तक जान चलती है तब तक इन्हें ना सिर्फ निलंबित (Suspended) किया जाए बल्कि यहां से हटाकर कहीं और अटैच किया जाए और तीसरी मांग यह है कि चूंकि अफीम की गुणवत्ता में हेराफेरी करने की एवज में रिश्वत दी गई, इसलिए इनके खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया जाए।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र में झमाझम का दौर शुरु, अगले 24 घंटे में इन जिलों में भारी बारिश के आसार

इधर, आज सोमवार को गाजीपुर और नीमच अफीम फैक्ट्री के महाप्रबंधक शशांक यादव मामले में एसीबी टीम नीमच पहुंची। रिश्वत लेने के संबंध में जो साक्ष्य मिले है, उसे वेरीफाई करने के लिए टीम पहुंची थी।वही ACB ने आज फैक्ट्री महाप्रबंधक शशांक यादव को न्यायालय में पेश किया गया था जिसके बाद न्यायालय ने आरोपी को 22 तारीख तक पीसी रिमांड भेजा। शशांक यादव से पूछताछ के बाद अफीम फैक्ट्री नीमच में ACB की टीम ने विजिट किया ।प्रशिक्षण से संबंधित जो भी प्रक्रिया है, उसी के तहत टीम अनुसंधान कर रही है ।

बता दे कि आरोपी शशांक यादव (38) उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में एक अफीम फैक्ट्री का महाप्रबंधक है। यूपी के इलाहाबाद का रहने वाला है और वह मध्य प्रदेश के नीमच में अफीम कारखाने में उसी पद का अतिरिक्त प्रभार भी संभालता है।शनिवार को कोटा-उदयपुर राजमार्ग पर टोल प्लाजा के पास कोटा हैंगिंग ब्रिज पर यूपी में पंजीकृत उनकी  एसयूवी से 16,32,410 रुपये की नकदी बरामद की गई, जब उनसे इस बारे में पूछा गया तो वो कुछ नहीं बोल पाए।आरोप है कि अधिकारी को यह धनराशि क्षेत्र के अफीम उत्पादक से रिश्वत के रूप में मिली थी।फिलहाल इस मामले में जांच की जा रही है।

यह भी पढ़े.. MP By-election: हटाए जाएंगे इन जिलों के अफसर, आयोग ने कलेक्टरों को भेजा पत्र