कमलनाथ कैबिनेट में फेरबदल की सुगबुगाहट, बदले जा सकते हैं मंत्रियों के विभाग

Can-be-changed-before-the-Lok-Sabha-elections

भोपाल।

लोकसभा चुनाव से पहले कमलनाथ के मंत्रियों के विभागों में परिवर्तन की अटकलें तेज हो चली है। खबर है कि आचार संहिता से पहले मुख्यमंत्री कमलनाथ कई मंत्रियों के विभागों में फेरबदल सकते है। इसके पीछे कारण मंत्रियों का कमजोर और खराब परफॉरमेंस है। सुत्रों की माने तो बांटे गए विभाग के अनुसार कई मंत्री तो बेहतर काम कर रहे है लेकिन कईयों के काम से पार्टी संगठन संतुष्ट और खुश नही है। दो महिने के अंदर कई विभागों में कुछ काम ही नही हुए, वादों को लेकर भी विभाग के मंत्री गंभीरता नही दिखा रहे है, जिसके चलते फेरबदल के आसार है। मुख्यमंत्री कमलनाथ दिल्ली में भी इस बात की चर्चा पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी से करने वाले है। संभावना जताई जा रही है कि कमलनाथ के दिल्ली से लौटने के बाद बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है।

        दरअसल, बीते दो महिनों में ना सिर्फ कानून व्यवस्था को लेकर बल्कि अन्य कामों जैसे राजस्व, वित्त, गृह, स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि को लेकर भी सरकार विपक्ष के निशाने पर रही है।विपक्ष इसे लोकसभा चुनाव में भी भुनाने की कोशिश कर रही है, इसके लिए उन्होंने विशेष प्लान भी बनाया है। जिसके चलते कांग्रेस को ये रणनिति अपनानी पड़ रही है। लोकसभा चुनाव से पहले सरकार कोई रिस्क लेने के मूड में नही है, इसलिए मंत्रिमंडल में फेरबदल ना कर विभागो को बदलने की तैयारी कर रही है।सूत्रों की माने तो  इसके लिए कमलनाथ ने मंत्रियों के दो महीने के कामकाज पर एक रिपोर्ट तैयार करवाई है, जिसमें एक दर्जन मंत्रियों का कामकाज अपेक्षाओं के मुताबिक नहीं पाया गया है, कई मंत्रियों के कामकाज और विभागों पर तो पकड़ बहुत कमजोर और खराब आई है। सुत्रों की माने तो ऐसा करके कमलनाथ की मंशा कमजोर मंत्रियों को सीधा ना हटाकर एक और मौका देने की है। कमलनाथ का मानना है कि बीते दो महिने में नौकरशाही में लगातार परिवर्तन हुए और पहली बार मंत्री बनने पर विभागों को समझने मे भी समय लगता है।ऐसे में जल्दबाजी में उन्हें हटाना ठीक नही होगा, इसके लिए विभाग बदले जाए और परिणाम देखा जाए।इसके बावजूद भी अगर सुधार नही देखा गया तो लोकसभा चुनाव के बाद मंत्रिमंडल में भी परिवर्तन किया जाएगा।

इन मंत्रियों को मिल सकती है बड़े विभाग की जिम्मेदारी

इस बदलाव में सीनियर मंत्रियों को बड़ी जिम्मेदारी मिलने की ज्यादा संभावना है।उनके काम में लगातार बेहतर काम देखा जा रहा है। इसी के चलते माना जा रहा है कि इस फेरबदल में सीनियर मंत्रियों को कुछ और बडे विभागों की कमान मिल सकती है। इनमें डॉ गोविंद सिंह का नाम ऊपर है,अभी उनके पास सामान्य प्रशासन,सहकारिता और संसदीय कार्य विभाग है।वे दिग्विजय सरकार में गृह मंत्रालय भी संभाल चुके हैं। इसी तरह सज्जन वर्मा और हुकुम सिंह कराड़ा को भी अतिरिक्त जिमेदारी मिल सकती है।