CBDT की रिपोर्ट में कई सिंधिया समर्थकों के नाम, कांग्रेस बोली- FIR होगी या BJP में जाते ही पवित्र हो गए?

कांग्रेस नेता केके मिश्रा ने ट्वीट कर लिखा है कि कमलनाथ जी को बदनाम करने की साजिश लोकसभा चुनाव के पहले ही रची गई थी.

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। 2019 में हुए लोकसभा चुनाव (Loksabha Election) के दौरान कालेधन (Black Money) के लेनदेन के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक के नाम सामने आने के बाद सियासत गर्माई है।अब कांग्रेस ने BJP से सवाल किया है कि क्या उन पर भी FIR होगी? वे BJP में आने के बाद पवित्र हो गए हैं?

यह भी पढे… सीबीडीटी की रिपोर्ट में कई खुलासे, दिग्विजय सिंह सहित इन नेताओं का नाम शामिल, हड़कंप

कांग्रेस नेता केके मिश्रा (KK Mishra) ने ट्वीट कर लिखा है कि कमलनाथ जी को बदनाम करने की साजिश लोकसभा चुनाव के पहले ही रची गई थी, आयकर विभाग(Income tax department) के छापों में कुछ भी नहीं मिला, CBDT की कपोलकल्पित रिपोर्ट में शिवराज सरकार (Shivraj Government) में सिंधिया समर्थक दो मंत्रियों, समर्थन दे रहे कई विधायकों के भी नाम आये हैं, क्या उन पर भी FIR होगी? वे BJP में आने के बाद पवित्र हो गए हैं?

दरअसल, कमलनाथ सरकार (Kamal Nath Goverment) के दौरान पड़े आयकर विभाग (Income Tax) छापों को लेकर केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड, सीबीडीटी (Central Board of Direct Taxes CBDT) की रिपोर्ट के खुलासे के बाद मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) की सियासत गर्म है। आए दिन नए नए खुलासे हो रहे है।अब इसमें सिंधिया समर्थकों का नाम भी शामिल होने की बात कही जा रही है।

यह भी पढ़े… MP- सोनिया गांधी ने बुलाई बैठक, कमलनाथ दिल्ली रवाना, संगठन में बदलाव के संकेत

नए खुलासे में सामने आया है कि तीन आईपीएस अधिकारियों के अलावा पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, बिसाहूलाल सिंह, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, प्रद्युम्न सिंह तोमर, सज्जन सिंह वर्मा समेत 50 से अधिक वर्तमान विधायकों व नेताओं के नाम भी रिपोर्ट में शामिल हैं।  वही पिछली सरकार में तत्कालीन महिला एवं बाल विकास की मंत्री इमरती देवी (Imarti Devi), परिवहन विभाग मंत्री गोविंद सिंह राजपूत (Govind Singh Rajput) और खनिज विभाग मंत्री प्रदीप जायसवाल (Pradeep Jaiswal) का नाम भी शामिल है, हालांकि तीनों अब BJP में शामिल हो चुके है।

यह भी पढ़े… खाद्य मंत्री बिसाहूलाल सिंह को एक और जिम्मेदारी, अध्यक्ष नियुक्त

खबर है कि चुनाव आयोग (Election commission) ने मध्यप्रदेश की शिवराज सरकार को यह रिपोर्ट सौंप दी है और अब राज्य सरकार जल्द ही केस ईओडब्ल्यू (EOW) को सौंप सकती है, ताकी आगे की जांच की जा सके, हालांकि इससे पहले विधि विभाग में रिपोर्ट को भेजे जाने की संभावना जताई जा रही है।वही इस पूरे खुलासे के बाद जहां कांग्रेस (Congress) में हड़कंप मचा हुआ है वही बीजेपी में भी हलचल तेज है। अब देखना दिलचस्प होगा कि आगे क्या क्या नए खुलासे होते है।

इन सिंधिया समर्थकों के नाम भी शामिल

बिसाहूलाल सिंह, प्रद्युम्न सिंह तोमर, राज्यवर्धन सिंह दत्तीगांव, एदल सिंह कंसाना, गिर्राज दंडोतिया, रणवीर जाटव, कमलेश जाटव, रक्षा संतराम सिरोनिया, प्रद्युम्न लोधी, राहुल लोधी, नारायण सिंह पटेल, सुमित्रा देवी कास्देकर, मनोज चौधरी, बसपा के रामबाई और संजीव सिंह कुशवाह (भाजपा को समर्थन) ।