CM Helpline : MP में 81 अधिकारियों पर बड़ा एक्शन, 32 हजार से ज्यादा का अर्थदंड लगाया

CM HELPLINE

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सीएम हेल्प लाइन (CM Helpline) में लंबित शिकायतों में लापरवाही और देरी बरतने पर एक के बाद अधिकारियों-कर्मचारियों पर कार्रवाई जारी है।अब सागर कलेक्टर ने सीएम हेल्पलाइन पार्टल की शिकायतों को अटेंड न करने तथा 322 शिकायतें अगले स्तर पर पहुँचने पर 81 अधिकारियों पर 32 हजार 200 रूपये का अर्थदण्ड लगाया है।वही मुरैना और अनूपपुर में भी कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़े.. MP Weather : मप्र में आज जमकर बसरेंगे बदरा, इन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट

दरअसल, बीते दिनों इस संबंध में सागर कलेक्टर (Sagar Collector) द्वारा आदेश जारी किया गया था कि सीएम हेल्पलाइन पोर्टल पर यदि कोई शिकायतों को बिना निराकरण दर्ज किए अनिराकृत शिकायतें अगले स्तर पर पहुँचेगी तो संबंधित लेवल अधिकारी के विरूद्ध प्रति शिकायत राशि 100 रूपये अर्थदण्ड अधिरोपित किया जाएगा। इसके बावजूद भी सीएम हेल्पलाईन की शिकायतें बिना निराकरण के अगले स्तर पर स्थानांतरित हो रहीं है।इसी के चलते यह अर्थदंड लगाया गया है।

जिन अधिकारियों पर अर्थदण्ड लगाया गया है, वे उक्त अर्थदण्ड की राशि सचिव, भारतीय रेडक्रास सोसायटी जिला सागर के खाता क्रमांक 942410100025980, बैंक ऑफ इंडिया (Bank Of India), कलेक्ट्रेट परिसर, सागर IFSC कोड बीकेआईडी0009424 में एक सप्ताह के अंदर जमा कराकर रसीद की छायाप्रति अनिवार्य रूप से कलेक्टर कार्यालय में जमा कराएंगे।

यह भी पढ़े.. MP School : स्कूली छात्रों के लिए सीएम शिवराज सिंह का बड़ा ऐलान

इसके अलावा मुरैना में प्रभारी कलेक्टर ने सीएमओ (CMO) सबलगढ़ रामवरण जाटव और भीकम सिंह तोमर को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।वही सहायक संचालक कृषि बीडी नरवरिया द्वारा 78 शिकायतों को निराकरण नहीं किया तो कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिये।

अनूपपुर में भी कार्रवाई

वही अनूपपुर अपर कलेक्टर सरोधन सिंह ने  जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत बीड के सचिव झूल सिंह पर 500 रुपये, जनपद पंचायत जैतहरी अंतर्गत ग्राम पंचायत कदमसरा के सचिव सुरेश कुमार राठौर पर 500 रुपये एवं जनपद पंचायत कोतमा अंतर्गत ग्राम पंचायत पैरीचुआ के सचिव  रामप्रसाद बैगा पर 500 रुपये की शास्ति अधिरोपित की है।यह कार्रवाई मप्र लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी अधिनियम के तहत समय-सीमा में आवेदकों को सेवाएं प्रदाय ना करने पर