बढ़ते संक्रमण से चिंतित सीएम शिवराज, बोले- जनता माफ़ करे पर करेंगे ये काम

सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना पर नियंत्रण पा लिया गया था लेकिन हम से एक हल्की सी चूक हुई और कोरोना ने दोबारा विकराल रूप धारण किया है।

shivraj

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में बढ़ते संक्रमण के बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने कहा है स्थिति अपने चरम पर पहुंच गई है। मैं जनता से अनुरोध करना चाहता हूं कि मुझे माफ कर दीजिएगा लेकिन मैं मास्क (mask) पर सख्ती करवाऊंगा और मास्क नहीं पहनने वाले को अपराध की श्रेणी में डाला जाएगा। सीएम शिवराज (CM Shivraj) ने कहा की मास्क नहीं लगाने वाले लोग अपनी जिंदगी के साथ-साथ दूसरों की जिंदगी के लिए भी खतरा बन रहे हैं। कम से कम दूसरों की जिंदगी के साथ खेलने का अधिकार किसी को नहीं है।

इसके साथ ही सीएम शिवराज ने जनता से अपील की है कि कोरोना कर्फ्यू जनता के लिए लगाया गया है। वह खुद तय करें कि बिना काम के बाहर नहीं जाएंगे। आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए घर के कोई दो लोग नीति तय करें। सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना संकट अपने चरम पर पहुंचा है। सरकार हर संभव प्रयास कर रही है किंतु जनता को सक्रिय होने की आवश्यकता है। सीएम शिवराज ने कहा कि जनता के सहयोग के बिना यह लड़ाई नहीं जीती जा सकती।

Read More: खंडवा: अस्पताल ने सौंपा शव, रास्ते में मरीज के जिंदा होने का हुआ खुलासा, जाने मामला

हमें हर व्यक्ति को वैक्सीन लगवाने के लिए जागरूक करना होगा। हमें 2 गज की दूरी के पालन करने के साथ-साथ सैनिटाइजेशन सहित मास्क लगाना अनिवार्य करना होगा। हमें अपने जीवन में इन आवश्यक कार्यों को मूलभूत कार्य में शामिल करना होगा। यह धैर्य और संयम का समय है। इसके साथ ही सीएम शिवराज ने कहा कि यह स्थिति आपात की स्थिति है हम ही तय करें कि हमें मास्क लगाना है या वेंटीलेटर। सीएम शिवराज ने कहा कि कोरोना पर नियंत्रण पा लिया गया था लेकिन हम से एक हल्की सी चूक हुई और कोरोना ने दोबारा विकराल रूप धारण किया है।

सीएम शिवराज ने कहा कि  आज जिस तरह की परिस्थिति है। उसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी। सरकार पूरा प्रयास कर रही है। अस्पताल में विस्तर की संख्या बढ़ाने के साथ-साथ ऑक्सीजन की आपूर्ति, कोविड केयर सेंटर बनाना और दवाई की व्यवस्था जारी है। आम जनता को सरकार के साथ आगे आना होगा उन्हें मास्क लगाने के साथ-साथ अन्य गाइडलाइन का पालन करना होगा। तभी हम कोरोना के इस भयानक परिस्थिति से उबर पाएंगे।