खंडवा: अस्पताल ने सौंपा शव, रास्ते में मरीज के जिंदा होने का हुआ खुलासा, जाने मामला

इधर जिला अस्पताल प्रबंधन के प्रबंधन शैली पर सवाल उठने लगे हैं।

dead body
Dead body in shivpuri

खंडवा, डेस्क रिपोर्ट। देश सहित प्रदेश भर में कोरोना संक्रमण के बढ़ते हालातों से स्थिति भयानक है। लगातार बड़ी संख्या में कोरोना संक्रमित मरीजों की खबर सामने आ रही है। वहीं दूसरी लहर में मौत का आंकड़ा भी तेजी से बढ़ता नजर आ रहा है। इसी बीच मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में जिला अस्पताल की बड़ी लापरवाही सामने आई है। जहां अस्पताल प्रबंधन द्वारा असंवेदनशीलता दिखाई गई।

दरअसल मौत के बढ़ते आंकड़े के बीच खंडवा जिला अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा एक जिंदा मरीज के परिजनों को मरीज की मौत की सूचना दी गई। इतना ही नहीं अस्पताल प्रबंधन ने मौत की सूचना देने के कुछ देर के बाद ही शव परिजनों को सौंप दिया। परिजन की मौत से पूरे घर में मातम पसरा हुआ था। वहीं सगे संबंधियों द्वारा अंतिम संस्कार की तैयारी पूरी कर ली गई।

Read More: कोरोना से बिगड़ते हालात, लॉज-होटलों को कोविड वार्ड बनाना की मांग, अस्पतालों में नही बची जगह

इसी बीच जब परिजनों द्वारा मरीज के पार्थिव शरीर को एंबुलेंस ले जाया जा रहा था। तब अचानक मरीज के जिंदा होने का खुलासा हुआ। परिजनों ने मरीज के चेहरा देखने की इच्छा जाहिर की। हालांकि अस्पताल प्रबंधन द्वारा लगातार इस बात से इनकार किया जा रहा था लेकिन परिजनों के जिद के बाद जैसे ही शव के ऊपर से कपड़े हटाया गया। खुलासा हुआ कि ये दूसरे मरीज का शव है। जिसके बाद परिजनों ने हंगामा खड़ा कर दिया। वहीं अन्य वार्ड में जांच करने के बाद परिजनों को उनके मरीज जीवित मिले। जिसके बाद मरीज के जिंदा होने का खुलासा हुआ। इधर जिला अस्पताल प्रबंधन के प्रबंधन शैली पर सवाल उठने लगे हैं।

इस मामले में परिजनों का कहना है कि हालत बिगड़ने के बाद मरीज को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां इलाज के दौरान मरीज को मृत बता कर शव परिजनों को सौंप दिया गया। वहीं जिला अस्पताल द्वारा इस तरह के असंवेदनशीलता सिरे तौर पर प्रदेश में स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़े कर रही है। वहीं परिजनों द्वारा अस्पताल प्रबंधन पर मरीज के इलाज में लापरवाही की बात कही जा रही।