MP: सीएम की दो टूक- परियोजना का जल्द पूरा करें काम, टेक्निकल स्टॉफ को बदलें

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। निकाय चुनावों (Municipal Election 2021) से पहले प्रदेश (MP) की शिवराज सरकार (Shivraj Government) अधूरे पड़े सरकारी कामों को तेजी से निपटाने में जुटी है, ताकी जनता के बीच जाकर अपने नंबर बढ़ा सके। इसी कडी में अब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) ने बरगी व्यपवर्तन परियोजना की स्लीमनाबाद टनल के निर्माण कार्य को जल्द से जल्द पूर्ण करने और पूरा टेक्निकल स्टाफ (Technical staff) बदलने के निर्देश दिए है।

यह भी पढ़े.. प्रॉपर्टी रजिस्ट्री वालों को सीएम शिवराज सिंह चौहान ने दी बड़ी राहत, निर्देश जारी

दरअसल, MP के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बरगी व्यपवर्तन परियोजना (Burgundy Diversion Project)  में अत्यधिक विलंब हुआ है। अब इस कार्य में बिल्कुल भी विलंब नहीं होना चाहिए। तुरंत सारी कार्रवाई पूर्ण करते हुए टनल का कार्य प्रारंभ करा जाए तथा इसे जल्दी से जल्दी पूर्ण किया जाए।कार्य में विलंब को अत्यंत गंभीरता पूर्वक लेते हुए निर्देश दिए कि इसके लिए जिम्मेदारी तय की जाए और पूरा टेक्निकल स्टाफ बदला जाए।

साथ ही यह सुनिश्चित किया जाए कि अब कार्य में विलंब न हो तथा कार्य उच्च गुणवत्ता का हो। बैठक में कार्य को शीघ्र पूर्ण करने की दृष्टि से निर्णय लिया गया कि MP के वर्तमान एजेंसी का कार्यकाल पहले आगामी 3 माह के लिए बढ़ाया जाए तथा इस दौरान निरंतर कार्य की मॉनिटरिंग की जाए। यदि कार्य संतोषप्रद होता है तो समय अवधि आगे बढ़ाकर कार्य पूर्ण कराया जाए।

यह भी पढ़े.. होली से पहले MP में सख्ती बढ़ी, इन जिलों में भी रविवार को लॉकडाउन, CM ने दिए ये निर्देश

बैठक में MP के उद्यानिकी खाद्य प्रसंस्करण एवं नर्मदाघाटी विकास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भारत सिंह कुशवाह (Bharat Singh Kushwaha), पिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) राम खेलावन पटेल (Ram Khelevan Patel), सतना सांसद श्रीगणेश सिंह, मुख्य सचिव इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव आईसीपी केशरी उपस्थित थे।

दरअसल, बरगी व्यपवर्तन परियोजना की 11.95 किलोमीटर लंबी स्लीमनाबाद टनल के लिए अनुबंध मार्च 2008 में हुआ था, जिसे 40 माह की अवधि में जुलाई 2011 तक पूर्ण किए जाना था परंतु चार बार समय अवधि बढ़ाने के बावजूद भी आज दिनांक तक कार्य पूरा नहीं हुआ है। अभी तक कुल 5.74 किलोमीटर कार्य पूर्ण हुआ है तथा अभी 6.21 किलोमीटर टनल बनना शेष है।

टनल की अनुबंधित लागत 799 करोड़ रुपए है, जिसमें से 560.70 करोड रुपए व्यय किए गए हैं। टनल से जबलपुर जिले के 60 हजार कटनी जिले की 21 हजार 823 तथा सतना जिले के 1 लाख 59 हजार 655 हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा मिलेगी। निर्माण एजेंसी मैसर्स पटेल – SEW (संयुक्त उपक्रम) हैदराबाद है।