उप चुनाव को लेकर कांग्रेस में मंथन शुरू, इन नामों पर माथापच्ची जारी

Congress-Jhabua-dilemma-bhuria-or-medha

भोपाल। लोकसभा चुनाव में झाबुआ लोकसभा सीट पर कांग्रेस शिकस्त के बाद अब विधानसभा उप चुनाव के लिए तैयारियों में जुट गई है। इस सीट से बीजेपी के जी एस डामोर जीते हैं। वह लोकसभा जाने से पहले विधायक थे। नतीजों के बाद पार्टी ने उन्हें विधायक पद से इस्तीफा देने के लिए कहा था। उनके इस्तीफा देने के बाद से विधानसभा में यह सीट खाली हो गई है। इस पर जल्द ही उप चुनाव होंगे। कांग्रेस के पास वर्तमान में 114 सीटें हैं। बहुमत से कांग्रेस दो सीट पीछे है। फिलहाल उसके पास सपा-बसपा और निर्दलीय विधायको का समर्थन है। अगर उप चुनाव में पार्टी यह सीट जीत जाती है तो उसके लिए सरकार बनाए रखने में स्थिरता रहेगी। 

अगर उप चुनाव में कांग्रेस को जीत मिलती है तो इससे बीजेपी का बड़ा झटका लग सकता है। बीजेपी के पास 108 विधायक हैं। डामोर के इस्तीफा देने से एक सीट कम हो गई है। अगर यह सीट उप चुनाव में उसके पास से कांग्रेस के खाते में जाती है तो फिर बीजेपी के लिए यह बड़ा झटका साबित होगा। इस सीट पर अभी से दो दावेदार सामने आ रहे हैं। लोकसभा चुनाव हारे कांतिलाल भूरिया एक बार फिर सक्रिय हो गए हैं। वहीं, पूर्व विधायक जेवियर मेडा भी इस सीट पर दावेदारी जता रहे हैं। सेवानिवृत्त सरकारी इंजीनियर जीएस डामोर ने पिछले नवंबर में अपना पहला चुनाव जीता जब भाजपा उम्मीदवार ने कांतिलाल भूरिया के बेटे डॉ विक्रांत भूरिया को हराया था। जबकि डामोर ने 66,598 और विक्रांत भूरिया ने 56,161 वोट हासिल किए, जबकि निर्दलीय उम्मीदवार मेधा ने 35,943 वोट हासिल किए।

चुनाव से कुछ ही दिन पहले, मेडा को कांग्रेस द्वारा एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतारने के कारण निष्कासित कर दिया गया था। पार्टी द्वारा उन्हें टिकट से वंचित करने से वह नाराज थे। 2008 में, मेडा – तत्कालीन कांग्रेस उम्मीदवार – एक ही सीट से भाजपा के पावसिंह पारगी को 19,000 वोटों से हराने के बाद विधायक बने थे। लेकिन 2013 में, मेडा भाजपा के शांतिलाल बिलवाल से 16,000 मतों के अंतर से हार गईं।