दमोह उपचुनाव 2021: दांव पर राहुल लोधी-अजय टंडन की साख, ढ़ाई लाख मतदाता करेंगे भाग्य का फैसला

दमोह उपचुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। इंतजार की घड़िया समाप्त हो गई है, अगले 12 घंटे में बाद यानि शनिवार 17 अप्रैल को कोरोना संक्रमण के बीच दमोह उपचुनाव (Damoh By-election 2021) के लिए वोट डाले जाएंगे।दमोह उपचुनाव (Damoh By-election) में करीब 22 उम्मीदवार मैदान में है और ढ़ाई लाख से ज्यादा मतदाता। लेकिन खास मुकाबला तो बीजेपी प्रत्याशी राहुल लोधी और कांग्रेस प्रत्याशी अजय टंडन बीच ही होगा। राजनैतिक दलों के साथ साथ चुनाव आयोग ने भी अपनी पूरी तैयारियां कर ली है।

यह भी पढ़े.. दमोह उपचुनाव से पहले 8 शासकीय सेवकों को नोटिस, 24 घंटे में मांगा जवाब

दरअसल, 17 अप्रैल को दमोह उपचुनाव के लिए सुबह 7 से शाम 7 बजे तक वोटिंग होना है। बीजेपी ने कांग्रेस छोड़ आए राहुल लोधी (Rahul Lodhi) को अपना प्रत्याशी बनाया है। राहुल लोधी को वर्तमान में कैबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त है और मध्य प्रदेश सिविल सप्लाई कॉरपोरेशन के अध्यक्ष भी हैं। वही दूसरी तरफ कांग्रेस ने अजय टंडन (Ajay Tandon) को मैदान में उतारा है। अजय टंडन पूर्व जिलाध्यक्ष रह चुके है और कांग्रेस के वरिष्ठ और दिग्गज नेताओं में गिने जाते है। टंडन 2018 से पहले पूर्व मंत्री जयंत मलैया (Jayant Malaiya) को चुनौती दे चुके है।वही अपने अपने प्रत्याशियों के लिए आखिरी पड़ाव में कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) और दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) ने मोर्चा संभाला तो वही BJP की तरफ से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chouhaan) और वीडी शर्मा अहम भूमिका में नजर आए।

यह भी पढ़े.. विधायक निधि: कोरोना संकटकाल में मप्र सरकार का बड़ा फैसला, कलेक्टरों को निर्देश जारी

कांग्रेस के पक्ष में कमलनाथ ने मेगा शो और दिग्विजय सिंह ने सभाएं की वही दूसरी तरफ शिवराज सिंह चौहान ने बड़े ऐलान कर मतदाताओं को साधने का दांव चला। इस चुनाव में दोनों ही दलों की साख दांव पर है, राहुल लोधी पर जहां दल बदल का मुद्दा हावी रहने वाला है वही कांग्रेस पर कर्जमाफी और कमलनाथ सरकार का कार्यकाल चुनौती बनेगा।अब देखना रोचक होगा कि मतदाता किसे चुनती है, इसके 2 मई को नतीजे आएंगे।अब देखना दिलचस्प होगा कि दमोह का मतदाता दल बदल को दोबारा मौका देता है या फिर सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस पर फिर भरोसा जताता है।

दमोह विधानसभा क्षेत्र पर एक नजर

दमोह जिले के विधान सभा क्षेत्र दमोह-55 के लिए मतदान 17 अप्रैल को प्रात: 7 बजे से प्रारंभ होगा। मतदान शाम 7 बजे तक चलेगा। मतदान के दौरान भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी कोविड-19 संबंधी गाइडलाइन का पालन सुनि‍श्चित किया जायेगा। मतदान के पहले सुबह 5.30 बजे मॉकपोल प्रारंभ होगा।दमोह विधान सभा के उप निर्वाचन में कुल 22 प्रत्याशी मैदान में है। इनमें 2 महिला प्रत्याशी शामिल हैं। कुल 359 मतदान केन्द्रों पर वोट डाले जायेंगे। उप निर्वाचन में एक-एक सामान्य एवं व्यय प्रेक्षक, 68 माइक्रो प्रेक्षक तैनात किये गये हैं।

मतदान के लिए 1 हजार 448 पोलिंग कर्मचारी और 432 रिजर्व पोलिंग कर्मचारियों सहित 1 हजार 880 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई गई है।मतदान पूरी सुरक्षा व्यवस्था के साथ संपन्न होगा। उप निर्वाचन के लिए 3 सीएपीएफ, 2 एसएएफ की कंपनियाँ, 859 डीपीएफ, 413 होम गार्ड और 359 एसपीओ तैनात किए गए हैं। साथ ही 219 स्थानों पर वेबकास्टिंग की व्यवस्था की गई हैं। कुल 5 हजार 163 हथियार जमा कराये गए हैं। क्रिटिकल मतदान केन्द्रों के रूप में 123 मतदान केन्द्र चिन्हित किये गए हैं। कुल 42 लाख 95 हजार रूपये की अवैध सामग्री, शराब और ड्रग्स की जप्ती की गई है।

ढ़ाई लाख मतदाताओं के हाथ में प्रत्याशियों की किस्मत

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार दमोह विधान सभा के उप निर्वाचन में कुल 2 लाख 39 हजार 808 मतदाता शामिल हैं। इनमें 1 लाख 24 हजार 345 पुरूष एवं 1 लाख 15 हजार 455 महिलाएँ और 8 थर्ड जेन्डर मतदाता शामिल हैं। कुल मतदाताओं में 80 वर्ष से अधिक उम्र के 2 हजार 647 मतदाता और 1 हजार 28 दिव्यांग मतदाता शामिल हैं। सर्विस मतदाताओं की संख्या 129 और पोस्टल बैलेट से मतदान करने वाले मतदाताओं की संख्या 437 है।मतदान प्रतिशत की जानकारी मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी मध्यप्रदेश की वेबसाइट ceomadhyaprades.nic.in पर देखी जा सकेगी।

कोरोना गाइडलाइन का होगा पूरा पालन

अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी अरूण कुमार तोमर ने बताया कि मतदान कोविड-19 के दिशा निर्देशों का पालन करते हुए कराया जाएगा। मतदान केन्द्र पर मतदाता के तापमान की जाँच की जायेगी। यदि तापमान अधिक होगा तो उसका तापमान 10 मिनिट के पश्चात फिर से लिया जाएगा। इसके बाद भी तापमान अधिक पाया गया तो मतदान के अखिरी में उस मतदाता से मतदान कराया जाएगा। हर मतदाता को मास्क पहनना आनिवार्य है। मतदान केन्द्र पर मतदाता को एक हाथ का दस्ताना दिया जाएगा, जिसको पहन कर वह EVM का बटन दबा सकेगा। मतदान केन्द्र पर अगमन और निर्गम द्वार पर हाथ धोने के लिए साबुन और सैनेटाइजर की व्यवस्था रहेगी।

                                                                         (भोपाल से पूजा खोदाणी की रिपोर्ट)