एक्शन मोड में दिग्विजय रणनीति में जुटे, इन मंत्रियों के हाथ में ‘जीत का प्लान’

digviajy-singh-in-bhopal-preparing-plan-for-winning-seat-

भोपाल। कांग्रेस ने भोपाल लोकसभा सीट से पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह को उम्मीदवार घोषित किया है। उम्मीदवार घोषित होने के बाद पहली बार भोपाल आए सिंह ने मीडिया से कहा कि पहली बार भोपाल आया हूं, मुझे सोचने समझने का थोड़ा समय दीजिए। भोपाल से दिग्विजय सिंह नहीं कांग्रेस पार्टी चुनाव लड़ रही है, दिग्विजय बस उम्मीदवार है।

भाजपा की सबसे मजबूत गढ़ से प्रत्याशी बनाए जाने के बाद पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मैदान संभाल लिया है। दिग्विजय अब एक्शन मोड में नजर आ रहा है गुरुवार को लोक सभा चुनाव के मद्देनजर जिला कांग्रेस की अहम और बड़ी बैठक लेने जा रहे हैं। उनके लिए राजधानी में कैसे बीजेपी के अभेद किले में सेंध लगाई जाए इसकी रणनीति कांग्रेस के चार मंत्रियों के पास है। इसमें भोपाल प्रभारी मंत्री डॉ. गोविंद सिंह, पीसी शरमा, आरिफ अकील और जयवर्धन सिंह शामिल हैं। चारोंं थिंक टैंक दिग्गी के लिए रणनीति पर काम कर रहे हैं। अकील सीहोर जिले के प्रभारी मंत्री हैंं उन्हें भोपाल की उत्तर विधानसभा समेत सीहोर से भी सिंह के पक्ष में माहौल तैयार करने के लिए जिम्मेदारी मिली है। वह दिग्गी समर्थक हैं और पूर्व में यह तक कह चुके हैं कि दिग्विजय के लिए वह अपनी जान तक दे सकते हैं। 

डॉ. गोविंद सिंह सियासत के चाणक्य माने जाते हैं। उन्हें राजनीति का लंबा अनुभव है और फिलहाल वह कैबिनट मंत्री के साथ भोपाल जिले के प्रभारी मंत्री भी है। इसलिए वह भोपाल शहर में जहां कांग्रेस कमजोर है वहां पार्टी को मजबूत करने के लिए योजना तैयार कर रहे हैं। पीसी शर्मा ने हाल ही में बीजेपी का गढ़ बन चुकी दक्षिण पश्चिम सीट से जीत हासिल की है। इस सीट पर सरकारी कर्मचारियों का बड़ा वोट बैंक है। इसलिए शर्मा के कंधों पर भी बड़ा जिम्मेदारी है। उन्होंंने मीडिया में दावा किया है कि कांग्रेस इस बार भोपाल सीट भी जीतेगी। उनके अलावा दिग्गी के पुत्र और शहरी विकास मंत्री जयवर्धन सिंह भी इस टीम का हिस्सा हैं। वह शहरी विकास मंत्री हैं उनके पास युवाओं की बड़ी फौज है जो दिग्गी के लिए युवा वर्ग में काम करेगी। 

गुरूवार को दिग्गी लेंगे बड़ी बैठक

भोपाल में अपना डेरा जमाने आए दिग्गी अब जमीनी पर काम करने पर फोकस कर रहे हैं। वह गुरूवार को जिला कांग्रेस कमेटी की बैठक लेंगे। इसमें उनके अलावा पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी भी शामिल होंगे। बताया जा रहा है सिंह इस बैठक में जिले के दोनों मंत्री, कांग्रेस पार्षद, पंचायत सदस्यों से रूबरू होंगे और कांग्रेस की जीत पर चर्चा करेंगे।