Electricity: ऊर्जा मंत्री ने बिजली कंपनियों को दिए ये निर्देश, बोले- कार्ययोजना तैयार करें

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कोयले की उपलब्धता बढ़ाने के लिये जरूरी कार्यवाही करें।

ऊर्जा मंत्री

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बिजली उपभोक्ताओं (electricity consumers) के लिए राहत भरी खबर है। बढ़ते बिजली के दामों और लंबे चौड़े बिलों से जल्द राहत मिलने वाली है। ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar)ने मप्र पॉवर मैनेजमेंट कंपनी सस्ती बिजली खरीदने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के 15 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, ऑरेंज अलर्ट जारी

दरअसल, ऊर्जा मंत्री  प्रद्युम्न सिंह तोमर ने मध्यप्रदेश पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी (Madhya Pradesh Power Management Company) के कार्यों की समीक्षा के दौरान निर्देश दिए कि विद्युत खरीदी दर कम करने के लिये सुनियोजित कार्य-योजना बनायें। ताप विद्युत गृहों एवं नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा से पॉवर पर्चेज एग्रीमेंट की समीक्षा करें। अनुपयोगी अनुबंधों को खत्म करें। विद्युत उत्पादकों द्वारा प्रस्तुत देयकों के भौतिक सत्यापन की फुलप्रूफ मेकेनिज्म बनायें। किसी भी स्तर पर लापरवाही नहीं होनी चाहिये।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि कोयले की उपलब्धता बढ़ाने के लिये जरूरी कार्यवाही करें। वर्ष 2021-22 के लिये विद्युत माँग एवं उपलब्धता की समीक्षा कर आगामी रबी सीजन में विद्युत उपलब्धता की कार्य-योजना अभी से बनायें। बैठक में कुसुम योजना के संबंध में भी चर्चा हुई।बैठक में बताया गया कि पॉवर बैंकिंग योजना से गत वर्ष 167 करोड़ रुपये की बचत हुई है। फ्लेक्सी प्लान लागू (Flexi plan implemented) करने से लगभग 350 करोड़ रुपये की बचत हुई है।

यह भी पढ़े.. आरक्षण को लेकर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, OBC-EWS के छात्रों को मिलेगा लाभ

बैठक में विद्युत खरीदी दर को कम करने की कार्य-योजना, आगामी वर्षों में ऊर्जा की उपलब्धता, बिजली खरीदी लागत, सोलर एनर्जी कॉर्पोरेशन ऑफ इण्डिया से किये गये अनुबंधों और विद्युत की माँग एवं उपलब्धता की समीक्षा सहित अन्य बिन्दुओं पर विस्तृत चर्चा की गई। इस दौरान प्रमुख सचिव ऊर्जा  संजय दुबे, एमडी पॉवर मैनेजमेंट कम्पनी आकाश त्रिपाठी एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।