स्वास्थ्य विभाग टीम की कार्रवाई, अस्पताल का किया निरीक्षण, नए मरीजों की भर्ती पर लगाई रोक

जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रत्नेश कुररिया ने अस्पताल में मरीजों को उपचार में हो रही असुविधा को ध्यान में रखते हुए सिटी अस्पताल को पत्र जारी कर नये मरीजों की भर्ती पर रोक लगा दी है।

निजी अस्पताल

जबलपुर, संदीप कुमार। नकली रेमडीसीवीर इंजेक्शन मामले में जहाँ सिटी अस्प्ताल के मालिक सरबजीत सिंह मोखा जेल में है।-उनकी पत्नी जसमीत मोखा पुलिस रिमांड में जबकि बेटे हरकरण सिंह फरार है। इसको देखते हुए अब जिला प्रशासन के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने भी कार्यवाही करना शुरू कर दिया है। आज जिला स्तरीय स्वास्थ्य टीम ने सिटी अस्पताल का निरीक्षण किया गया। निरीक्षण के दौरान पाया गया कि अस्पताल में वर्तमान की स्थिति में 16 मरीज भर्ती हैं। जिसमें 14 कोरोना व 2 अन्य बीमारी के मरीज है।

Read More: राज्यमंत्री का कोरोना से निधन, मेदांता में चल रहा था इलाज, पीएम-सीएम ने जताया शोक

जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रत्नेश कुररिया ने अस्पताल में मरीजों को उपचार में हो रही असुविधा को ध्यान में रखते हुए सिटी अस्पताल को पत्र जारी कर नये मरीजों की भर्ती पर रोक लगा दी है। साथ ही निर्देश दिये हैं कि वर्तमान में भर्ती सभी मरीजों का विधिवत उपचार हो। इसके अलावा अब कोई भी नया मरीज भर्ती न हो।

अभी जो सिटी अस्प्ताल में 16 मरीज भर्ती है उनके उपचार में किसी प्रकार की असुविधा परेशानी न हो इसका भी ख्याल रखा जाए। ऐसा पाया जाने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा मध्यप्रदेश राजोउपचार एवं स्थापना अधिनियम 1973 एवं नर्सिंग होम अधिनियम के तहत कार्यवाही की जावेगी।