संकटकाल के बीच सीएम शिवराज ने प्रदेशवासियों को दी बड़ी राहत, कहा- पीएम मोदी का भी मिला साथ

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट कोरोना (corona) के संकटकाल में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने प्रदेशवासियों को बड़ी राहत दी है। जहां फुटपाथ और हाथ ठेले से कमाने वाले 6 लाख से अधिक शहरी पथ विक्रेताओं के खाते में शिवराज सरकार (shivraj government) ने आर्थिक मदद जमा कराई है। इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने कहा कि जब तक संकट खत्म नहीं होता है। तब तक सभी मिलकर काम करेंगे। वहीं उन्होंने कहा कि सभी को निशुल्क खाद्यान्न भी उपलब्ध कराया जाएगा।

इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने कहा कि प्रदेश में संकट का समय है लेकिन यह टलेगा जरूर। तब तक सभी को निशुल्क खाद्यान्न देने से जाने के साथ ही साथ करीबन 6 लाख 10 हज़ार पथ विक्रेताओं के खाते में 1000 जमा करा दिए गए हैं। उन्होंने अपील की है कि बैंक से राशि निकालने के लिए बैंक में भीड़ न लगाएं। हमें संक्रमण की रफ्तार को ब्रेक करना है। लगातार बढ़ रहे चेन को तोड़ना आवश्यक है।

Read More: बाहुबली पूर्व सांसद मो. शाहबुद्दीन की कोरोना से मौत! तिहाड़ जेल प्रशासन ने बताई सच्चाई

इतना ही नहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जनता से अपील की है कि यदि आपके घर में जगह ना हो। तभी आप कोविड सेंटर में जाए। आपके परिवार का हित शिवराज सरकार की प्राथमिकता है। वहीं उन्होंने कहा कि जब तक मध्य प्रदेश में जनता कर्फ्यू लागू है। तब तक लोगों को घरों में रहना चाहिए। मेहमानों को अपने घर ना बुलाए। जहां तक हो शादी विवाह को टालने की कोशिश करें।

वहीं सीएम शिवराज ने कहा कि जब संक्रमण कम होगा। तब दुकान खोली जाएगी। रोजगार के अवसर मिलेंगे और हम कोरोना को हराकर इस जंग को जरूर जीतेंगे लेकिन जब तक सभी को सुरक्षित रहने की आवश्यकता है। इतना ही नहीं सीएम शिवराज ने जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना काल को हमने चुनौती काल के रूप में तय किया है। वहीं 3 महीने तक गरीबों को निशुल्क अनाज मिलेगा। इसके साथ ही साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तय किया है कि 2 महीने का राशन गरीबों को दिया जाएगा। जिससे गरीबों को बड़ी राहत मिलेगी।

बता दें कि प्रदेश में लगातार संक्रमित मरीजों की रिपोर्ट सामने आने के बाद भी सरकार द्वारा प्रदेश के 35 जिलों में 30 अप्रैल तक और अन्य जिलों में 1 मई से लेकर 3 मई तक जनता कर्फ्यू लागू किया गया है। साथ ही साथ प्रदेश की 22,811 ग्राम पंचायत में से 21,193 ग्राम पंचायत में जनता कर्फ्यू लगाने का संकल्प लिया गया है।