Jabalpur: पुलिस की पिटाई से आहत होकर पल्लेदार ने किया सुसाइड, गुस्साए परिजनों ने किया एसपी ऑफिस का घेराव

ग्रामीणों ने पुलिस अधिकारियों को घेरा और पीड़ित परिवार के लिए 10 लाख रु मुआवजे की मांग की है। साथ ही ग्रामीणों ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से कहा है कि दोषी पुलिसकर्मियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए

जबलपुर, संदीप कुमार। जबलपुर (Jabalpur) में महज 20 किलो मूंग चोरी के आरोप में पाटन पुलिस (police) ने एक पल्लेदार की जमकर पिटाई की थी। जिससे आहत होकर पल्लेदार ने फाँसी लगाकर आत्महत्या (suicide) कर ली। अब इस मामले में मृतक के परिजनों ने एसपी ऑफिस का घेराव कर इन्साफ की गुहार लगाई है।

यह भी पढ़ें…खनियाधाना में एंबुलेंस ने महिला को रौंदा ! चालक फरार, महिला की हालत गंभीर

जानकारी के मुताबिक घटना पाटन थाना के मंडी की है। जहां 55 साल के सुरेश अहरिवार 30 सालो से पाटन मंडी में पल्लेदारी का काम किया करते थे। 15 जुलाई को सिंघई ट्रेडर्स के मुनीम संदीप ने 20 किलो मूंग मंडी में बेचकर रु लाने को सुरेश से कहा, सुरेश मंडी में मूंग बेचकर रु दुकानदार के बेटे को दे दिए। रु लेने के बाद पंकज द्वारा सुरेश के साथ मारपीट की गई। साथ ही पाटन थाना में पदस्थ फिरोज सहित 3 जवान दूकान पहुँचे और सुरेश को मूंग चोरी के आरोप में पीटने लगे। सुरेश चीख चीखकर सच्चाई बता रहा था पर पुलिस थे कि उसे पीटते जा रहे थे। वहीं मौके पर खड़े लोगो ने मारपीट का वीडियो बनाया है। जो अब सामने आया है। जिसमे आप देख सकते है कि किस तरह पुलिसकर्मी सरेआम पल्लेदार की पिटाई कर रहे है।

सरेराह पुलिस से पीटने के बाद सुरेश था टेंशन में
बीच सड़क पर पुलिसकर्मियों से पिटने के बाद सुरेश गुमशुम हो गया था। और घर आकर छत पर बने कमरे में सो गया। सुरेश की पत्नी ने बताया कि 15 जुलाई घटना वाले दिन जब वह खाना लेकर कमरे में पहुँची तो देखा कि सुरेश फाँसी में झूल रहा था। परिजनों ने रस्सी काटकर उसे नीचे उतारा तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। इधर अगले दिन 16 जुलाई को पाटन थाना पुलिस ने अपनी गलती छिपाने के लिए सुरेश को मानसिक रूप से कमजोर बताकर उसका पोस्टमार्टम करवा दिया। और परिजनों को शव सौंप दिया।

ग्रामीणों ने घेरा एसपी को-10 लाख रु मुआवजे की उठी मांग
पल्लेदार सुरेश अहिरवार की पुलिस कर्मियों के साथ के द्वारा हुई पिटाई और फिर आहत होकर सुरेश का आत्महत्या कर लेने पर ग्रामीणों ने पुलिस अधिकारियों को घेरा और पीड़ित परिवार के लिए 10 लाख रु मुआवजे की मांग की है। साथ ही ग्रामीणों ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों से कहा है कि दोषी पुलिसकर्मियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए, इधर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर इस पूरे घटनाक्रम की जांच शुरू कर दी गई है।

यह भी पढ़ें…हिना खान ने इस खूबसूरत अंदाज़ में कहा “ईद मुबारक़”