कोरोना से मौत के आंकड़ों पर एक बार फिर कमलनाथ ने सरकार को घेरा, उज्जैन का दिया हवाला

कमलनाथ

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना की दूसरी लहर में मध्यप्रदेश में मौत के आंकड़ों को लेकर राजनीति जारी है। कुछ समय पहले कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने एक ट्वीट कर फिर सरकार पर सवालिया निशान खड़े किए हैं। उन्होंने उज्जैन में सरकारी आंकड़ों और सरकारी विभाग के आंकड़ों के बड़े अंतर का उदाहरण दिया है।

सिंगरौली- प्रभारी मंत्री के अधिकारियों को निर्देश- ‘योजनाओं का क्रियान्वन समय पर करें’

कोरोना की दूसरी लहर में मध्यप्रदेश में सवा लाख से ज्यादा लोगों की मौत होने का दावा करने वाले कमलनाथ पर बीजेपी लगातार मौतों पर सियासत करने का आरोप लगाती रही है। बीजेपी के नेता कमलनाथ पर यह कहकर हमला बोलते रहे हैं कि कमलनाथ बजाय आपदा में लोगों की मदद करने के मौत के झूठे आंकड़े पेश कर भय और भ्रम का वातावरण बना रहे हैं। लेकिन थोड़ी देर पहले कमलनाथ ने एक ट्वीट किया है और इस ट्वीट में उन्होंने उज्जैन जिले का उदाहरण दिया है।

दरअसल मध्य प्रदेश सरकार के आंकड़ों के हिसाब से उज्जैन में कोरोना से 171 लोगों की मौत हुई है जबकि महिला बाल विकास विभाग के असिस्टेंट डायरेक्टर ने स्वीकार किया है कि कोरोना से 1311 मौत तो उन लोगों की हुई है जो अपने परिवार के मुखिया थे। कमलनाथ का कहना है कि ऐसे में मृतकों की संख्या और ज्यादा हो सकती है। दरअसल महिला बाल विकास विभाग को उन लोगो के लिये सरकारी योजनाओं की तैयारी करने का जिम्मा सौंपा गया है जो कोरोना से अपने परिवार के मुखिया को खो चुके हैं और जिन्हें सरकार सहायता देना चाहती है। कमलनाथ ने ट्वीट में आगे कहा है कि “शिवराज जी, स्वयं महाकाल की प्रेरणा से उनकी नगरी में सत्य उजागर हुआ है। आप भी पूरे प्रदेश के सच्चे आंकड़े देश के सामने लाइए और एक एक पीड़ित परिवार की मदद कीजिए। कांग्रेस पार्टी कोविड पीड़ितों की मदद में पूरा सहयोग देने को तैयार है। लेकिन आपके झूठ में शामिल होने को तैयार नहीं।” कमलनाथ के ट्वीट पर अब सरकारी जवाब का इंतजार है और सरकार अब इस बारे में क्या सफाई देती है यह देखने वाली बात होगी क्योंकि सरकारी आंकड़े से उलट सरकारी विभाग का ही एक अधिकारी यह पुष्टि कर रहा है कि वास्तव में कोरोना से मौतों की संख्या आंकड़ो से कहीं अधिक है।